107 Views

नई दिल्ली, 25 सितंबर 2019, (आरएनआई)। उन्नाव दुष्कर्म कांड की पीड़िता को दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) से मंगलवार रात डिस्चार्ज कर दिया गया। बता दें कि पीड़िता के परिजनों ने अदालत से कहा था कि उन्नाव में उनकी जान को खतरा है, इसलिए दिल्ली में ही उनके रहने की व्यवस्था की जाए। इसके बाद कोर्ट ने गवाह सुरक्षा दिशा-निर्देशों के तहत उन्हें दिल्ली में ही रहने के निर्देश दिए थे।

मामले की अगली सुनवाई 28 सितंबर को होगी। पीड़िता के परिवार को तीस हजारी कोर्ट ने फिलहाल दिल्ली में ही रुकने के निर्देश दिए हैं, इसलिए पीड़िता अपने परिवार के साथ अगले एक हफ्ते तक एम्स के जय प्रकाश नारायण ट्रॉमा सेंटर के हॉस्टल में रहेगी।

मालूम हो कि बीते 28 जुलाई को परिवार के कुछ सदस्यों के साथ रायबरेली जाते वक्त पीड़िता सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गई थी। दुर्घटना के समय गाड़ी में पीड़िता के साथ उनके वकील भी मौजूद थे।