spot_img

Category: ब्लॉग

“जामिया को चलते रहना होगा। इसके चलते रहने के लिए, यदि जरूरत पड़ी तो मैं कटोरा लेकर भीख मांगने के लिए भी तैयार हूं।”

Report: Pratap Saurabh महात्मा गांधी यह बात 1925 में उस वक्त कह रहे थे जब जामिया की आर्थिक हालत बिगड़ने पर उसे करोल बाग...

‘आज़ादी में मदरसों का रोल और हमारी सरकारों का रवैया’

मदारिसे इस्लामिया पर हमले कोई नई बात नहीं हैं। यह हमारी बदक़िस्मती है कि हमारी सरकारें ऐसे मुद्दे उछालती हैं जिनसे अवाम का कोई...

आज़ादी का जश्न बिना मुजाहिदे आज़ादी को याद किए अधूरा: सैय्यद मोहम्मद अशरफ

आज़ादी का अमृत उत्सव एक शाम आज़ादी के परवानों के नाम कार्यक्रम कर देश भर में मनाया आल इण्डिया उलमा व मशाइख बोर्ड ने। नई...

यज़ीद के व्यवहार का पालन करने वालों को हुसैन का नाम लेने का कोई अधिकार नहीं है: अब्दुल गफ्फार सिद्दीकी

मुहर्रम का महीना शुरू होते ही उर्दू अखबारों और पत्रिकाओं में कर्बला और हुसैन की शहादत से जुड़े लेखों का सिलसिला शुरू हो जाता...

मुल्क में जम्हूरियत की बक़ा के लिए सियासी पार्टियों में जमहूरी फ़ज़ा की जरूरत है।अब्दुल गफ्फार सिद्दीकी

देश में जमहूरी निजाम और जमहूरी अक़दार की बात इस वक्त उसी क़द्र जरूरी है जिस क़द्र पानी और ग़िज़ा। फासीवादी हुकूमत के क़याम...

जामिया के डॉ. आसिफ़ उमर की पुस्तक ‘हिंदी साहित्य में मुस्लिम साहित्यकारों का योगदान’ का विमोचन

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के हिंदी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. आसिफ उमर की पुस्तक ‘हिंदी साहित्य में मुस्लिम साहित्यकारों का योगदान’ का विमोचन 29...

Worldwide News, Local News in San Francisco, Tips & Tricks

spot_img