________________________________________

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे।
~आशुफ़्ता चंगेज़ी

___________________________________________

आदमी की तलाश में है ख़ुदा,
आदमी को ख़ुदा नहीं मिलता।
~रईस अमरोहवी

___________________________________________

अपने माज़ी की जुस्तुजू में बहार,
पीले पत्ते तलाश करती है।
~गुलज़ार

______________________________________________

जिसे अब तक तलाश करता हूँ,
गुम-शुदा एक याद है मुझ में।
~ज़फ़र इक़बाल

______________________________________________

अपनी तलाश अपनी नज़र अपना तजरबा,
रस्ता हो चाहे साफ़ भटक जाना चाहिए।
~निदा फ़ाज़ली

______________________________________________