कोलकाता। ट्रेन यात्रियों को डरा धमका कर इनसे रुपये वसूलने वाले एक फर्जी टीटीई शांतनु भादुड़ी (32) को सियालदह स्टेशन से गिरफ्तार किया गया है। शांतनु भादुड़ी को आज सुबह स्टेशन के 10 नंबर प्लेटफार्म से दबोचा गया। आरोप है कि वह स्टेशन में टिकट जांच कर रहा था और बेटिकट यात्रियों से भारी जुर्माना वसूल रहा था। पूर्व रेलवे सूत्रों ने बताया कि आरपीएफ के स्पेशल टास्क फोर्स के सब इंस्पेक्टर पवन कुमार पूरा माजरा समझ गये और वह शांतनु की गतिविधियाों पर नजर रख रहे थे। गिरफ्तार किये गये युवक ने टीटीई की तरह उसने भी काला कोट पहन रखा था। उसने फर्जी आईडेंटिटी कार्ड भी बनवाया था और उसे गले में पहन रखा था। यहां तक कि टिकट पंच करने का यंत्र भी रखा था ।

आरपीएफ अधिकारियों को संदेह हुआ तो जाकर उससे पूछताछ शुरू की गई। हालांकि उसके पास जुर्माना वसूली के लिए प्रत्येक टीटी को दिया जाने वाला रेलवे का रसीद बुक नहीं था। तुरंत रेलवे के कमर्शियल विभाग में खबर भेजा गया जिसके बाद मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने बताया कि वह टीटीई नहीं है बल्कि कोई फर्जी व्यक्ति है। इसके बाद उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया।आरपीएफ सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि सियालदह स्टेशन पर फर्जी टिकट जांच अधिकारियों की बाढ़ आ गई है। सुबह और शाम के समय जब यात्रियों की भारी भीड़ स्टेशन पर जुटती है तो कई फर्जी टीटीई काला कोट पहनकर यात्रियों को परेशान करते हैं।

यह भी आरोप है कि जो लोग वैध तरीके से रेलवे में टीटीई के रूप में तैनात हैं, वह भी कई बार ड्यूटी खत्म हो जाने के बावजूद दूसरे प्लेटफॉर्म पर जाकर यात्रियों का टिकट चेक करने लगते हैं और बिना टिकट यात्रियों से बिना रसीद भारी जुर्माना भी वसूलते हैं। गिरफ्तार किए गए फर्जी टीटीई से पूछताछ की जा रही है। उसने आईकार्ड कहां से बनवाया और कब से यह काम कर रहा है, यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है।