हैदरगढ़, बाराबंकी।  कोतवाली हैदरगढ़ क्षेत्र के ग्राम व पोस्ट बारा निवासी कृष्ण बहादुर, राम बहादुर व शिव बहादुर पुत्रगण छेदीलाल की कीमती जमीन गाटा सं-1380 जो 17 विसवा के करीब है। उक्त जमीन को छेदीलाल ने मरने से पहले करौंदी गांव निवासी एक व्यक्ति के हाथों बेच दिया था। छेदीलाल के मौत के बाद शिव बहादुर ने उक्त गाटा संख्या में से अपने हिस्से की दो विसवा जमीन करौंदी गांव के निवासी महावीर पुत्र शीतला बख्श के हाथों क्रय कर दिया।

शेष बची जमीन पर विपक्षी वीरेन्द्र बहादुर पुत्र सूर्यपाल ने जालसाजी करके व स्थानीय राजस्व कर्मियों से साठगांठ करके अपने आपको शिव बहादुर बताकर जमीन की वरासत करा ली और गुपचुप तरीके से उक्त जमीन पर बैंक ऑफ इण्डिया से सरकारी लोन भी ले लिया इतना ही नही लखनऊ सुल्तानपुर जब हाइवे निर्माण के दौरान जमीन का अधिग्रहण हुआ तो उक्त जमीन भी अधिग्रहण क्षेत्र में आ गयी और जालसाज ने उक्त जमीन पर मिलने वाला लाखों रुपये का मुआवजा भी डकार लिया।