बाराबंकी/लखनऊ, 2 मार्च (आरएनआई) | स्थानीय पूर्ति निरीक्षक कार्यालय समय लगभग 11.32 बजे दोनों कक्षों में ताले लटक रहे थे, कार्यालय के बरामदे में 3 वहीं कुछेक कार्डधारक गेट के पास कार्यालय खुलने की बांटजोह रहे थे। मुख्यमंत्री चाहे कितने ही कड़े निर्देश क्यों न जारी करें परन्तु स्थानीय पूर्ति कार्यालय की मनमर्जी चरम पर है एक तरफ जहां कार्यालय खुलने और बन्द होने का कोई समय नहीं है वहीं जनता के कार्य का समय भी कम कर दिया गया है जिससे कार्डधारकों को परेशानी उठानी पड़ रही है। शुक्रवार की सुबह 11.32 मिनट तक कार्यालय में ताले लटक रहे थे।

राशनकार्ड में नाम ठीक कराने व यूनिट बढ़वाने के लिए बरामदे में हसबुल पत्नी मो0 जकी, ग्राम भटुआमऊ, जुबेदा नालापार दक्षिणी कस्बा फतेहपुर, जुनेद नालापार दक्षिणी मस्तान रोड फतेहपुर, कार्यालय खुलने के इन्तजार में बैठे थे वहीं गेट पर लगभग आधा दर्जन लोग धूप सेंकते हुए कार्यालय खुलने की बाटजोह रहे थे। जब संवाददाता ने पूर्ति निरीक्षक आरएन मिश्र से सम्पर्क करना चाहा तो उनका मोबाइल कवरेज क्षेत्र से बाहर मिला। पूर्ति कार्यालय की यह स्थिति कोई नयी बात नहीं है।

इस कार्यालय में तैनात पूर्ति निरीक्षकगण एवं लिपिक तहसील मुख्यालय पर निवास नहीं करते और शाम होते ही तहसील मुख्यालय छोड़ देते हैं जबकि प्रदेश मुख्यमंत्री एवं जिलाधिकारी ने निर्देश जारी कर रखे हैं कि सभी अधिकारी/कर्मचारी अपने तैनाती स्थल पर ही रात्रि निवास करेगें परन्तु इस कार्यालय में इस निर्देश की जमकर धज्जियां उड़ायी जा रही है। उधर पूर्ति निरीक्षक आरएन मिश्रा ने जनता के कार्य 10 बजे से 2 बजे तक ही किये जाने का फरमान जारी कर रखा है जिससे दूर दराज से आने वाले कार्डधारकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

इस सम्बन्ध में जिलापूर्ति अधिकारी संतोष विक्रम शाही ने बताया कि कार्यालय समय से न खुलना गलत बात है संज्ञान में आया है इसकी जांच करायी जायेगी।