कांग्रेस सरकार का राफेल को लेकर एक बार फिर मोदी सरकार को घेरा । कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोलतो हुए उनपर सौदे में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। राहुल गांधी ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री पाक साफ हैं तो वो जेपीसी क्यों नहीं करा रहे हैं और जेपीसी से क्यों डर रहे हैं। साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि सरकार से केई सारी चीजें गायब हो गई हैं। उन्होंने सरकार पर इलजाम लगाते हुए कहा की सराकर का काम ही साबूतो को गायब करना।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि दो करोड़ युवाओं का रोजगार गायब हो गया, किसानों को उनकी फसल को सही दाम मिलना गायब हो गया है, 15 लाख का वादा गायब हो गया, किसानों के बीमा का दाम गायब हो गया, डोकलाम गायब हो गया है और अब राफेल की फाइलें गायब हो रही है।कल मीडिया में एक रोचक बात कही गई है, क्योंकि अक्सर कहा जाता है कि हम जांच करेंगे, और राफेल की फाइलें गायब हो गईं हैं,  जिसने 30 हजार करोड़ रुपए का घोटाला किया है, जिसके बारे में उन फाइलों में साफ लिखा है, उस पर कोई जांच नहीं होगी।राफेल के कागजात चोरी हो गए है, इसका मतलब तो यही हुआ की  वे कागजात सही हैं। प्रधानमंत्री के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए, सच्चाई बाहर आ जाएगी। राफेल सौदे में हर व्यक्ति के खिलाफ जांच की जानी चाहिए,  चाहे वह प्रधानमंत्री क्यों ना हो। रक्षा मंत्रालय की फाइलों में लिखा है कि राफेल सौदे में प्रधानमंत्री कार्यालय ने समानांतर बातचीत की तो प्रधानमंत्री के खिलाफ जांच क्यों नहीं हो सकती। राफेल सौदे में प्रधानमंत्री मोदी ने बायपास सर्जरी की है, अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए खरीद में देरी की गई।

राहुल गांधी  को इस बयान पर विफक्ष ने पलटवार किया। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि, ‘राहुल गांधी  किसी का कितना राग अलापेंगे। और वह किसकी बात सुनेंगे।वह एयरफोर्स की नहीं मानते, वह सुप्रीम कोर्ट की नहीं मानते, वह CAG को नहीं मानते तो क्या राहुल को पाकिस्तान से सर्टिफिकेट चाहिए, राहुल जी पाक का सर्टिफिकेट आपको खुद लाना होगा।’ उन्होंने कहा कि वैसे भी इनदिनों पाक में राहुल गांधी और उनकी पार्टी के नेताओं की चर्चा खूब हो रही है। उन्होंने कहा कि ये बिल्कुल बेबुनियाद और शर्मिंदगी भरा आरोप है। राहुल गांधी देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करना बंद करें।