मिर्जापुर| पिछले 5 सालों में दलित और शोषित वर्ग के खिलाफ घृणा जनित अपराध लगातार बढ़े हैं फिर चाहे गुजरात के उना का मामला हो या हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या का मामला हो, केंद्र की मोदी सरकार मौत की जांच कराने के बजाय यह साबित करने में लगी रही कि रोहित वेमुला दलित है या नहीं. मिर्जापुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी ललितेशपति त्रिपाठी ने अंबेडकर जयंती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों में सम्मिलित होते हुए ये बाते कही उन्होंने कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर ने हमें आगाह किया था कि हम नजर रखें कि इंसानी रिश्तों को चलाने वाले सिद्धांत के रूप में लोकतंत्र कही देश से गायब ना हो जाए. बाबा साहेब के ये शब्द आज के दौर में उतने ही मौजूं हैं, क्योंकि पिछले पांच सालों में देश के लोकतांत्रिक मूल्यों पर लगातार प्रहार हुआ है।उन्होंने कहाकि सत्ता को कटघरे में खड़ा करने वाले,सवाल पूछने वालों को देशद्रोही बताकर उनका मुंह बंद करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन लोकतंत्र हमारी धमनियों में खून की तरह दौड़ता है और इतिहास गवाह है जब-जब लोकतंत्र पर हमला हुआ है जनता ने उसका मुंहतोड़ जवाब दिया है ललितेशपति ने कहा कि संविधान निर्माता बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के सपनों का भारत कांग्रेस पार्टी ही बना सकती है. बाबा साहेब का सपना था कि वंचित और शोषित-एससी/एसटी/ओबीसी वर्ग को समान अधिकार मिले. इसीलिए कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणापत्र में समान अधिकार आयोग के स्थापना का ऐलान किया है ताकि इस वर्ग के लोगों को शिक्षा, रोजगार और आर्थिक क्षेत्र में समान अवसर प्राप्त हो सके।