सीपी जोशी ने आखिरकार अपने बयान पर दुख जारी किया, जिसमें उन्होंने मोदी और उमा की जाति पर सवाल किये थे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नाराज़गी के बाद जोशी ने अफसोस जाहिर किया.राहुल गांधी ने ट्विट करके कहा कि सीपी जोशी का बयान कांग्रेस पार्टी के आदर्शों के विपरीत है. पार्टी के नेता ऐसा कोई बयान न दें जिससे समाज के किसी भी वर्ग को दुःख पहुंचे.राहुल ने आगे लिखा कि कांग्रेस के सिद्धांतों, कार्यकर्ताओं की भावना का आदर करते हुए जोशी जी को जरूर गलती का अहसास होगा|

इसके बाद जोशी ने भी ट्विट कर खेद जताया. उन्होंने लिखा कि कांग्रेस के सिद्धांतो एवं कार्यकर्ताओं की भावनाओं का सम्मान करते हुए मेरे कथन से समाज के किसी वर्ग को ठेस पहुँची हो तो मैं उसके लिए खेद प्रकट करता हूं.गुरुवार को एक सभा को संबोधित करते हुए सीपी जोशी ने कहा था, ‘उमा भारती और साध्वी ऋतंभरा की जाति मालूम है किसी को क्या ? इसके बारे में कोई जानता है तो पंडित जानते हैं. अजीब देश हो गया. इस देश में उमा भारती लोधी समाज की हैं, वह हिंदू धर्म की बात कर रही हैं. साध्वीजी किस धर्म की हैं? वह हिंदू धर्म की बात कर रही हैं. नरेंद्र मोदीजी किस धर्म के हैं, हिन्दू धर्म की बात कर रहे हैं. 50 साल में इनकी अक्ल बाहर निकल गई.’

दरअसल, इससे पहले कांग्रेस के अन्य नेताओं का भी ऐसा ही बयान आ चुका है. रणदीप सुरजेवाला ने मध्यप्रदेश में यह बयान दिया था कि कांग्रेस के डीएनए में ब्राह्रण है.

गुजरात चुनाव के दौरान जब विवाद बढ़ा, तो रणदीप सुरजेवाला ने ही यह कहा था कि राहुल गांधी जनेऊधारी ब्राह्मण हैं.बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने इसे सीपी जोशी का चौकाने वाला बयान बताया है.

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने CP जोशी के बयान को आश्चार्यजनक बताया

अय्यर के इस बयान के बाद पीएम मोदी ने अपनी चुनाव रैलियों में कांग्रेस पर तीखा हमला किया था. कई राजनीतिक विश्लेषकों का आकलन था कि अगर अय्यर ऐसा नहीं बोलते, तो गुजरात में परिणाम कुछ और हो सकता था.