पुलवामा में हुए आतंकी हमले से सारा देश सदमे में है। राजैनितिक पार्टियों से ले कर सामाजिक और धार्मिक संगठन धर्म व कुनबा की क़ैद से आज़ाद मुल्क के सीने पर हुए इस आतंकी हमले की निंदा कर रहे हैं और आतंकियों के विरुद्ध कड़ी और जल्द कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। आल इंडिया उलमा व मशाईख़ बोर्ड युवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सय्यद आलमगीर अशरफ ने आज इंदौर बिलाल मस्जिद में ख़िताब करते हुए कहा कि अब पानी सर से आगे आ गया है। इस आतंकी हमले से हमारा खून खोल रहा है। सरकार इस मामले में जल्द से जल्द कार्रवाई करे और दोषियों को ऐसे ही सरे आम गोली मार कर सज़ा दे तब कहीं जा कर हमारे जवानों को सुकून मिलेगा। उन्हों ने कहा कि

इस हमले और इस की साज़िश में कश्मीर से लेकर पाकिस्तान, दिल्ली से कर लाहौर तक जो भी शामिल हो उसे सबक़ सिखाना ही होगा। उन्हों ने आगे कहा कि अगर इस मुद्दे पर राजनीति हुई तो यह हमले से भी बड़ा अपमान होगा।

उन्हों ने आगे मुसलमानों से कहा कि अपनी ज़मीनों की हिफाज़त के लिए तैयार रहें जब भी मुल्क को खून की ज़रूरत पड़े सब से आगे नज़र आयें। उन्हों ने कहा यह हमला पाकिस्तान की तारीख का आखरी हमला हो सकता है। हिंदुस्तान के 20 करोड़ मुसलमान अकेले ही निपटने के लिए काफी हैं।

वहीँ सुन्नी सेंटर नागपुर से सय्यद मुशर्रफ अक़ील ने हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि बहुत हो गई अमन की कोशिश, कुछ लोग प्यार की भाषा नहीं समझते उन से उन की भाषा में बात करना पड़ेगा।

सय्यद आलमगीर अशरफ ने कहा कि आल इंडिया उलमा व मशाईख़ बोर्ड दिल दहला देने वाली तकलीफ की इस घड़ी में जवानों के परिवार के साथ है।