2,370 Views

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन क़ानून और एनआरसी को लेकर दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया में पिछले 13 दिसंबर से जारी है अब इसको लेकर पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। ये प्रदर्शन अब आंदोलन का रूप ले चुका है। प्रदर्शन करते हुए 19 दिन गुज़र गए और देखते ही देखते नया साल आ गया।

नए वर्ष 2020 की पहली रात को जामिया के छात्रों ने आज़ादी नाईट के नाम से मनाया। जैसे ही रात के 12 बजे और नए साल 2020 की शुरुआत हुई सभी ने राष्ट्रगान से नए साल का स्वागत किया।

जहाँ देशभर में नया साल मनाने के लिए लोग शिमला, मनाली और गोवा के इलावा पता नहीं कहाँ-कहाँ गए लेकिन जामिया के छात्रों और आम लोगों ने मिलकर CAA के खिलाफ अपना संघर्ष करते हुए नया साल मनाया।

दिल्ली की सर्दी जिसने पिछले 120 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है पर इस कंपकपा देने वाली ठंड लोगों के हौसलों को नहीं तोड़ सकी। बीते रात जामिया के बाहर मनाए गए इस आज़दी नाईट में कई हज़ार की संख्या में लोग मौजूद थे जो आज़ादी के नारे लगा रहे थे।

जामिया के छात्रों द्वारा नए साल के शुरुआत के इस अन्दाज़ की चर्चा पूरे देश मे हो रही है। बुद्धिजीवी, समाजसेवी, राजनेता, शायर और बॉलीवुड के सितारें इसकी चर्चा कर रहे है।