कोलकाता। वैसे जिस बात का अंदेशा था ठीक वैसा ही हुआ। आज महानगर कोलकाता की ट्राफिक व्यवस्था की सांस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा को लेकर फूलती रही। साफ कहे तो महानगर कोलकाता की यातायात व्यवस्था आज दोपहर उस वक्त चरमरा गई जब पूरे राज्य से लाखों की संख्या में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा में शामिल होने के लिए ब्रिगेड परेड मैदान पहुंचे। बुधवार सुबह से हावड़ा, सियालदह और कोलकाता स्टेशनों पर हुगली, बर्दवान, पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर, बांकुड़ा, पुरुलिया उत्तर और दक्षिण 24 परगना, नदिया आदि जिलों से लाखों कार्यकर्ता कोलकाता पहुंचने लगे थे। सुबह 8:00 बजे तक परिस्थिति सामान्य थी क्योंकि उस समय आम लोगों की बहुत अधिक भीड़ कोलकाता में नहीं होती है लेकिन 9:00 बजे के बाद लाखों की संख्या में आम लोग भी अपने काम पर जाने के लिए निकलने लगे। बुधवार कार्य दिवस होने की वजह से एक तरफ लाखों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे तो दूसरी ओर आम लोग बसों में सवार होकर ब्रिगेड की जनसभा के लिए रवाना हो रहे थे। आलम ऐसा था कि दोपहर 2:00 बजे तक हावड़ा ब्रिज से लेकर महानगर कोलकाता के प्रत्येक क्षेत्र में यातायात व्यवस्था बदहाल रही। कोलकाता में उमड़े भाजपा कार्यकर्ताओं की भीड़ का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सुबह से लेकर दोपहर तक जिधर भी नजर जाती थी उधर भाजपा कार्यकर्ता रैली की शक्ल में ब्रिगेड परेड मैदान की ओर बढ़ रहे थे, पार्टी के झंडे लगे थे और चारों तरफ भाजपा के कार्यकर्ता कोलकाता की सड़कों पर नजर आ रहे थे। हावड़ा, सियालदह एवं कोलकाता स्टेशनों से सुबह से ही अनगिनत रैलियां ब्रिगेड परेड मैदान की ओर रवाना हुईं जिसमें शामिल भाजपा कार्यकर्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भारत माता और भाजपा जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे। भाजपा कार्यकर्ताओं की भारी भीड़ को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की थी और कोलकाता के चप्पे-चप्पे पर अतिरिक्त जवानों को तैनात किया गया था। हालांकि पुलिस ने बैरिकेडिंग कर कार्यकर्ताओं को सड़क के किनारे से आगे बढ़ाने की कोशिश की लेकिन इतनी अधिक भीड़ को संभाल पाना संभव नहीं हो पा रहा था इसीलिए यातायात व्यवस्था चरमराई रही जिसके चलते कोलकाता के विभिन्न क्षेत्रों में अपने कार्यस्थल पर जाने के लिए निकले लोग डेढ़ से दो घंटे बिलंव से पहुंचे।