कल वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट पेश किया। जिसके बाद से पक्ष-विपक्ष की प्रतिक्रिया आने लगी। तेलुगु देशम पार्टी के प्रमुख और आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने केंद्रीय बजट को निराशाजनक बताते हुए भाजपा पर आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि केंद्र ने पूर्वोत्तर राज्यों को बजटीय आवंटन किया लेकिन आंध्र प्रदेश को नजरअंदाज कर दिया, जो गंभीर वित्तीय संकट से गुजर रहा है।

चंद्रबाबू ने आगे कहा कि  केंद्र द्वारा कवर किए जाने वाले राजस्व घाटे के बारे में  भी बजट में कुछ उल्लेख नहीं किया गया है। 16,000 करोड़ रुपये के कुल राजस्व घाटे में से केवल 4,000 करोड़ रुपये ही दिया गया।

उन्होंने आगे यह भी कहा कि केंद्र सरकार ने आदिवासी विश्वविद्यालय और केंद्रीय विश्वविद्यालय के लिए महज 13 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। लेकिन वहीं पर ‘आईआईटी, एनआईटी, आईआईएम, आईआईआईटी जैसे शैक्षणिक संस्थानों के लिए एक पैसा भी आवंटित नहीं किया गया है।