चुनाव की घोषणा होते ही पार्टीयों ने अपने दाव चलने शरू कर दिया है, इसी बीच मायावती ने काग्रेंस पार्टी को एक बड़ा झटका दिया है,मायावती ने फिर एक बार दोहराया की आने वाले लोकसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी काग्रेंस के साथ किसी भी राज्य में गठबंधम नहीं करेगी।

यूपी में कांग्रेस के लिए महज दो सीट छोड़ते हुए सपा-बसपा ने गठबंधन कर लिया था। हालांकि अखिलेश यादव कहते रहे हैं कि कांग्रेस भी उनके गठबंधन का हिस्सा है, लेकिन मायावती के इस बयान के बाद साफ हो गया है कि अब ये दल अपने दल के साथ ही चुनाव मैदान में उतरेंगे। मायावती के इस बयान के बाद साफ हो गया है की इस बार के लोकसभा चुनाव में मायावती काग्रेंस पार्टी से दूरी बना के रखगी.

कांग्रेस और बसपा के बीच राजनीतिक दूरी तीन हिंदी राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान विधानसभा चुनावों के दौरान भी देखने को मिली थी। मध्य प्रदेश में गठबंधन न होने के लिए मायावती ने कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया था।