260 Views


हरदोई, 17 सितंबर 2019, (आरएनआई)। मन्दिर प्रकरण मे भारी जनाक्रोश व पार्टी की छवि खराब होते देख भाजपा जिलाध्यक्ष सौरभ मिश्र ने एक साहसिक कदम उठाते हुये शिवलिंग तोडे जाने के आरोपो से घिरे भाजपा पिछडा वर्ग के जिलाध्यक्ष डा. अरुण मौर्य को पार्टी ने तत्कालीन प्रभाव से निलम्बित करते हुये तीन सदस्यीय  जांच टीम का गठन कर मामले की जांच कराने की बात कही है।गठित टीम तीन दिन मे उन्हे अपनी जांच रिपोर्ट सौपेगी। गौरतलब है कि गत 15सितम्बर 2019 को नगर के कुश आश्रम मे भाजपा नेता द्वारा एक वर्ग बिशेष की बैठक बुलायी गयी थी।बैठक के दौरान ही आश्रम परिसर मे स्थित शिवमन्दिर मे स्थापित शिवलिंग को कुछ अराजक तत्वों ने खण्डित कर दिया।

जिसका आरोप भाजपा नेता पर लगाया गया है।इस प्रकरण मे भारी जनाक्रोश व हिन्दू संगठनो के विरोध के चलते भाजपा नेता अरुण मौर्य समेत 4 नामजद व 150 अज्ञात लोगो पर शहर कोतवाली मे मुकदमा अपराध संख्या 624/19अन्तर्गत धारा 147,148,295,336,506 भारतीय दण्ड संहिता दर्ज हुआ।इसमे नामजद 2आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।प्रकरण मे विरोध का अन्दाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कचहरी मे  वकीलों ने आरोपियों के मुंह पर काली स्याही पोत दी। दूसरी ओर हिन्दू संगठन व नगर की जनता लगातार आरोपी भाजपा नेता की गिरफ्तारी की मांंग पर अडे हुये है।

इसी क्रम मे हिन्दू महासभा के लोगो ने कोतवाली के सामने विरोध प्रदर्शन कर भाजपा नेता की गिरफ्तारी की मांग की वही देर शाम नगर के युवाओं ने नुमाइश चौराहा जाम कर विरोध दर्ज कराया है।भारी जनाक्रोश व हिन्दू संगठन के विरोध का सज्ञान लेते हुये अपनी निष्पक्ष व तेजतर्रार हिन्दूवादी छवि को बरकरार रखते हुये  भाजपा जिलाध्यक्ष सौरभ मिश्र ने देर शाम एक पत्र जारी कर आरोपी भाजपा नेता को तत्कालीन प्रभाव से पार्टी से निलम्बित कर दिया है।

साथ ही भाजपा नेता पर लगे आरोपों की जांच हेतु पार्टी स्तर पर एक तीन सदस्यीय टीम का गठन कर तीन दिन मे प्रकरण की रिपोर्ट देने को कहा है।फिलहाल मामला की स्थिति जाच के बाद ही स्पष्ट हो पायेगी लेकिन भाजपा जिलाध्यक्ष द्वारा उठाया गया कदम एक साहसिक कदम है जिसकी लोग प्रशंसा भी कर रहे है।

लक्ष्मीकान्त पाठक पत्रकार हरदोई