रिपोट- फैजान शेख

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव बड़ा ब्यान दिया है कहा है कि उनके पिता मुलायम सिंह यादव प्रधानमंत्री पद की दौड़ में कही नहीं हैं. अखिलेश ने कहा कि हमारा गठबंधन बसपा से भारत को नया प्रधानमंत्री देने के लिए हुआ है और पुरा भरोसा है की हम भारत को नया प्रधानमंत्री देगें.23 मई को नतीजे आने के बाद सपा और बसपा दोनो पार्टी बैठकर तय करेगी कि पीएम कौन होगा. अच्छा होता अगर नेताजी यानी मुलायम सिंह यादव को एक मौका मिलता लेकिन मुझे लगता है कि वो प्रधानमंत्री पद के रेस में कही से शामिल नहीं हैं.

आपको बता दे कि लगभग 24 सालों के बाद मायावती और मुलायम सिंह यादव एक साथ एक मंच पर दिखाई दिए थे. उस समय मुलायम सिंह यादव थोड़ा अस्वस्थ दिखाई दिए थे. इसके चंद दिन बाद ही वे चेकअप के लिए लखनऊ पीजीआई में भी पहुंचे थे.

दूसरी तरफ मायावती सीधे तौर पर तो नहीं लेकिन अप्रत्यक्ष तौर पर पीएम बनने की बात सबके सामने  जाहिर कर चुकी हैं. जब उन्होंने चुनाव नहीं लड़ने की बात कही थी तब ही उन्होंने ये भी कहा था कि अगर वे सत्ता में आती हैं और प्रधानमंत्री या मंत्री पद के लिए बात होती है तो कहीं से भी वे लोकसभा चुनाव जीत कर संसद में आ सकती हु।