109 Views

सीतापुर, 24 सितंबर 2019, (आरएनआई)। जमीन रोजगार के प्रश्न को लेकर प्रदेश में चैतरफा कोहराम मचा हुआ है। सरकार एंटी भू माफिया पोर्टल शुरू कर इसे महज कानून व्यवस्था का सवाल बनाकर अपना पल्ला झाड़ रही है। जमीन का सवाल हल करने के लिए सरकार भूमि आयोग का गठन करें और तत्काल भूमि सुधार कानून लागू करें। उक्त बात किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष देवेंद्र तिवारी ने किसान, मजदूर, दलित संसद को संबोधित करते हुए कही। यह कार्यक्रम लालबाग पार्क में आयोजित किया गया। उन्होंने कहा कि अब जमीन के प्रश्न पर किसान मजदूर दलित आरपार की लड़ाई लड़ेंगे।

सरकार को किसानों की बात माननी ही होगी। इस अवसर पर महिलाओं की प्रदेश उपाध्यक्ष मधु पांडे ने कहा अब योगी सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की जगह बेटी बचाओ बेटी बचाओ अभियान चला रहे है।ं महिलाएं इनकी इसके खिलाफ पूरे प्रदेश में सड़कों पर उतरेंगे। किसान मंच के जिलाध्यक्ष शिव प्रकाश सिंह ने कहा कि जिला प्रशासन भूमाफियाओं को संरक्षण दे रहा है और भूमि कानूनों का पालन नहीं कर रहा है। दलित लेखक नियंत्रक एसके पंचम ने कहा कि पूना समझौता रद्द करो, दलितों को पृथक निर्वाचन मिलना चाहिए। दलितों को इसके लिए आरपार की लड़ाई लड़नी चाहिए।

अम्बेडकर अध्ययन के निदेशक डॉक्टर बृज बिहारी ने कहा कि दूसरी आजादी की जंग का नेतृत्व बहुजन समाज को करना होगा इस तैयारी में जुट जाएं और नकली अंबेडकर वादियों को इतिहास के कूड़ेदान में फेंक कर अम्बेडकर का सपना पूरा करना होगा। कार्यक्रम को सुनीला रावत एवं वरिष्ठ पत्रकार वामपंथी नेता सलाउद्दीन तथा अन्य कई लोगों ने संबोधित किया।

इस अवसर पर कन्हैया लाल कश्यप, रामसनेही वर्मा, जगदीश, जीतेन्द्र मिश्र, सचेंद्र दीक्षित, रामचंद्र, चंद्रशेखर, विजय सिंह, दुर्गा प्रसाद, राजेश गौतम, मुन्ना लाल, रामकिशोर, हरिशंकर बाबा, स्वरूप तथा सुरेन्द्र सहित अन्य कई लोग मौजूद रहे।