70 Views

कोलकाता, 12 जनवरी 2020, (आरएनआई )। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कोलकाता दौरे के आज दूसरे दिन कहा है कि सीएए नागरिकता लेने का नहीं बल्कि नागरिकता देने का कानून है। वहीँ प्रधानमंत्री मोदी ने स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन पर आज सुबह-सुबह रामकृष्ण मंदिर पहुंचकर पूजा अर्चना की।

प्रधानमंत्री मोदी ने रामकृष्ण मिशन के मुख्यालय के बेलूर मठ में प्रार्थना समारोह में शामिल छात्रों को संबोधित करते हुए नागरिकता संशोधन कानून को लेकर कहा कि यह कानून नागरिकता देने के लिए है, न कि नागरिकता को लेने के लिए, इस कानून को रातों-रात नहीं बल्कि सोच विचार कर बनाया गया है, लेकिन कुछ राजनी‍तिक दल इसे जानबूझकर समझना नहीं चाहते हैं, उन्‍होंने कहा कि इस कानून के बन जाने के बाद अब पाकिस्‍तान को जवाब देना होगा कि उसने अल्‍पसंख्‍यकों पर जुर्म क्‍यों किया।

उन्होंने कहा कि हमने वो ही किया है जो की महात्मा गांधी ने कहा था, इस कानून के जरिए हम उन लोगों की मदद कर रहे हैं जो पड़ोसी देशों में अपनी धार्मिक आस्था के चलते प्रताड़ित किए गए। मैं आप लोगों से पूछना चाहता हूं कि ऐसे लोगों की मदद करना गलत है क्या, इस कानून से यहां के लोगों की नागरिकता पर प्रश्न नहीं खड़े हो रहे हैं लेकिन कुछ लोग अपने स्वार्थ के लिए लोगों को गुमराह करने में लगे हैं।

उन्होंने आगे कहा मैं फिर कहूंगा, सिटिजनशिप ऐक्ट, नागरिकता लेने का नहीं, नागरिकता देने का कानून है और सिटिजनशिप अमेंडमेंट एक्ट, उस कानून में सिर्फ एक संशोधन है, इतनी छोटी सी बात यहां के बच्चों को समझ आ गई लेकिन राजनीति का गंदा खेल खेलने वाले जानबूझकर इसे समझना नहीं चाहते हैं।