भोजपुर, 3 अप्रैल | लोक सभा आम निर्वाचन 2019 के अवसर पर चुनाव कार्य हेतु उपयोग में लाए जाने वाले वाहनों के परिचालन एवं मुआवजा भुगतान में पारदर्शिता लाने के लिए वाहन प्रबंधन प्रणाली के तहत ऑनलाइन प्रविष्टि की व्यवस्था है ।इस प्रणाली के द्वारा वाहनों का आकलन, अधिग्रहण, मुआवजा भुगतान ,इंधन की आपूर्ति ,वाहनों के अंतर जिला स्थानांतरण ,अधिग्रहित वाहनों की विमुक्ति आदि के ऑनलाइन प्रविष्टि का प्रावधान किया गया है ताकि वाहनों के परिचालन एवं मुआवजा भुगतान में ईमानदारी , जवाबदेही एवं पारदर्शिता कायम रखा जा सके। चुनाव कार्य में वाहनों से संबंधित समस्त कार्यों के संपादन हेतु जिला वाहन कोषांग का गठन किया गया है जो रमना मैदान अवस्थित बंदोबस्त कार्यालय में संचालित है। इस कोषांग के नोडल पदाधिकारी के रूप में जिला परिवहन पदाधिकारी श्री माधव कुमार सिंह अपने टीम के साथ सक्रिय एवं तत्पर हैं। 10 मार्च से लागू आदर्श आचार संहिता के क्रम में जिले में वाहन चेकिंग का सघन एवं प्रभावी अभियान जोरों पर है । इस संदर्भ में जानकारी देते हुए जिला परिवहन पदाधिकारी श्री माधव कुमार सिंह ने बतलाया कि 10 मार्च से अब तक परिवहन विभाग , खनन विभाग एवं अनुमंडल / थाना स्तर पर चलाए गए वाहन चेकिंग अभियान के तहत 59.87 लाख राशि की वसूली की गई है जिसमें परिवहन विभाग द्वारा 29.92 लाख , खनन विभाग द्वारा 24.97 लाख, तथा अनुमंडल /थाना स्तर पर 4.98 लाख रूपये की वसूली की गई है। इस अभियान में परिवहन एवं खनन विभाग के द्वारा कुल 258 वाहनो एवं अनुमंडल/ थाना द्वारा 600 दुपहिया वाहनों पर दंडात्मक कार्रवाई के तहत वसूली की गई है । जिलाधिकारी ने कहा है कि मोटर वाहन अधिनियम के प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित कराने हेतु वाहन चेकिंग अभियान में और अधिक तेजी लाई जाएगी तथा मोटर वाहन अधिनियम की सुसंगत धाराओं के तहत दोषी के विरुद्ध कठोर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी । चुनाव कार्य में लगे अधिकारियों एवं कर्मियों के लिए पर्याप्त संख्या में वाहनों की आवश्यकता है ।तदनुसार जिला में कुल 4130 वाहनों का आकलन किया गया है जिसका ससमय अधिग्रहण कर नियमानुकूल मुआवजा भुगतान की कार्रवाई की जाएगी। इसमें प्रेक्षक, मतदान दल, पीसीसीपी ,सेक्टर मजिस्ट्रेट ,माइक्रो ऑब्जर्वर, फ्लाइंग स्क्वायड ,सहायक व्यय प्रेक्षक ,पुलिस एवं सुरक्षा बल, आदर्श आचार संहिता टीम सहित कई अन्य कार्यों में लगे कर्मियों के लिए वाहन का आकलन किया गया है। जिलाधिकारी ने सरकारी एवं गैर सरकारी सभी प्रकार के वाहनों पर मतदाता जागरूकता संबंधी पोस्टर एवं स्टीकर लगाने का निर्देश दिया है ताकि जिले के विभिन्न क्षेत्रों में भ्रमणशील वाहनों द्वारा मतदाताओं को सरल एवं सहज रूप में 19 मई को अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करने हेतु जागरूक एवं प्रेरित किया जा सके। राजनीतिक दलों अथवा उम्मीदवारों द्वारा आयोजित जनसभा में प्रयुक्त होने वाले वाहनों की अनुमति सिंगल विंडो सिस्टम के तहत लिया जाना है जिसमें आयोजक द्वारा वाहनों की संख्या ,वाहनों के प्रकार ,वाहन का दर ,गाड़ी नंबर , चालक का नाम ,तथा अन्य बांछित दस्तावेज आदि का विवरण देना है ताकि उम्मीदवार के खर्च में व्यय की राशि जोड़ा जा सके। वाहनों पर झंडा बैनर लाउडस्पीकर फाग लाइट आदि का प्रयोग बिना अनुमति के नहीं करना है अन्यथा मोटर वाहन अधिनियम की सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी। राजनीतिक दलों अथवा उम्मीदवारों को ऑडियो वीडियो सुसज्जित वाहनों द्वारा प्रचार-प्रसार हेतु भी जिला निर्वाचन पदाधिकारी से अनुमति की आवश्यकता है ।इसके लिए प्रचार सामग्री का हार्ड एवं सॉफ्ट कॉपी के साथ आवेदन देना है ताकि सामग्री की जांच कर अनुमति प्रदान की जा सके ।अगर प्रचार प्रसार की सामग्री से सामाजिक सद्भाव भंग होने की आशंका हो अथवा व्यक्तिगत आक्षेप से युक्त प्रचार सामग्री हो तो वैसी हालत में अनुमति नहीं दी जा सकती है।