130 Views

रियाद, 14 सितंबर 2019, (आरएनआई)। सऊदी अरब के गृह मंत्रालय ने बताया है कि सऊदी अरामको के दो तेल संयंत्रों पर ड्रोन से हमला किया गया है। अरामको के औद्योगिक सुरक्षा दलों ने अब्कैक और खुरैस में अपने संयंत्रों में ड्रोन हमले के कारण लगी आग से निपटना शुरू कर दिया है। संयंत्रों में आग पर काबू पा लिया गया है।

राज्य के पूर्वी प्रांत में हमले के बाद जांच शुरू की गई है, लेकिन अभी तक ड्रोन के स्रोत पता नहीं चला है।

यमन के हूती विद्रोहियों द्वारा किए गए एक हमले से अरामको के शायबा प्राकृतिक गैस द्रवीकरण सुविधा में आग लग गई थी, लेकिन कंपनी द्वारा किसी भी हताहत की सूचना नहीं दी गई थी।

हूती विद्रोहियों ने सऊदी हवाई ठिकानों और अन्य सुविधाओं को निशाना बनाते हुए सीमापार मिसाइल और ड्रोन हमलों से हमला शुरू किया। जिसके लिए कहा गया कि यह हमले यमन के विद्रोही-कब्जे वाले क्षेत्रों पर सऊदी के नेतृत्व द्वारा हवाई युद्ध करने के खिलाफ किया जा रहा है।

अरामको पर हुए हमले के लिए अभी तक विद्रोहियों की ओर से कोई जिम्मेदारी नहीं ली गई है। सऊदी अरामको सऊदी अरब की राष्ट्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस कंपनी है। राजस्व के मामले में दुनिया की कच्चे तेल की सबसे बड़ी कंपनी है।

पहले भी अरामको को आतंकवादी निशाना बनाते रहे हैं। अल-कायदा के आत्मघाती विस्फोटकों ने फरवरी 2006 में इस तेल कंपनी पर हमला करने की कोशिश की थी लेकिन वे नाकाम रहे थे।