सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित तीन सदस्यीय पैनल में आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर को शामिल किए जाने पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमिन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने आपत्ति जताई है। ओवैसी ने कहा कि श्री श्री रविशंकर को सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थ बनाया है, लेकिन उनका पहले का एक बयान सबके सामने है जिसमें वह कहते हैं कि अगर मुसलमान अयोध्या पर अपना दावा नहीं छोड़ते हैं तो भारत सीरिया बन जाएगा।

AIMIM चीफ ने कहा, ”श्री श्री रविशंकर जिन्हें मध्यस्थ नियुक्त किया गया है, उन्होंने इससे पहले एक बयान में कहा था कि अगर मुसलमान अयोध्या पर अपना दावा नहीं छोड़ेंगे तो भारत सीरिया बन जाएगा। अच्छा होता कि अगर सुप्रीम कोर्ट एक किसी तटस्थ व्यक्ति को (अयोध्या मामले में मध्यस्थता की) जिम्मेदारी सौंपता।”

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला लेते हुए राजनीतिक रूप से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामला को मध्यस्थता के लिए भेज दिया। सर्वोच्च अदालत ने मध्यस्थता के जरिए इस मसले को सुलझाने का आदेश दिया है।