174 Views

भारतीय जनता पार्टी की पूर्व सहयोगी पार्टी शिवसेना ने 2016 में हुई सर्जिकल स्ट्राइक के प्रभाव पर सवाल उठाते हुये कहा कि ऐसा माना जा रहा था कि इससे पाकिस्तानी आतंकियों के हौसले पस्त होंगे लेकिन यह केवल एक ‘भ्रम’ बन कर रह गया है, क्योंकि भारत के सैनिक अब भी कश्मीर में आतंकी हमलों में जान गंवा रहे हैं।

शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादकीय में कहा गया कि सीमाओं का अशांत होना देश के लिए अच्छा नहीं है। पार्टी ने जम्मू-कश्मीर में बुधवार को आतंक निरोधी अभियान के दौरान महाराष्ट्र के नासिक के रहने वाले सेना के जवान संदीप रघुनाथ सावंत की मौत की पृष्ठभूमि में यह कहा।

शिवसेना ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि वह सर्जिकल स्ट्राइक को राजनीतिक लाभ के लिए भुना रही है। गौरतलब है कि, साल 2016 में पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमले के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सीमा में जाकर आतंकियों को निशाना बनाया था और उसके आतंकी कैंप को तबाह किया था।