196 Views

नई दिल्ली: छात्रों के विरोध और नागरिकता कानून सीएए और एनआरसी के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के चलते वर्तमान राजनीतिक स्थिति पर चर्चा करने के लिए विपक्षी दल सोमवार को दोपहर में बैठक करेंगे। विपक्ष पार्टियों इस बैठक के साथ अपनी एकता दिखाना चाहती हैं, लेकिन इसमें बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शामिल नहीं होंगी। वहीं बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने भी इसमें हिस्सा लेने से इनकार कर दिया।

मायावाती ने ट्वीट करते इसकी जानकारी दी, साथ ही मायावती ने ट्वीट करके कांग्रेस पर विश्वासघात करने का आरोप लगाया है, ये भी कहा कि बीएसपी सीएए और एनआरसी आदि के विरोध में है।

केन्द्र सरकार से अपील करते हुये कहा कि वह इस विभाजनकारी व असंवैधानिक कानून को वापिस ले, साथ ही जेएनयू व अन्य शिक्षण संस्थानों में भी छात्रों का राजनीतिकरण करना यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण। वहीं आम आदमी पार्टी ने भी कांग्रेस के नेतृत्व में बुलाई गई बैठक में हिस्सा लेने से मना कर दिया है।