बाराबंकी /लखनऊ, बुुधवार को रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर कई ट्रेनों के एक साथ लेट होने की वजह से अधिक यात्री मौजूद थे। सभी लोग अपनी अपनी ट्रेन के इंतजार में थे। इनमें किसी को गोंडा, रसौली, दरियाबाद, पटरंगा, फैजाबाद आदि जाना था। तो किसी को बनारस और दूसरी ट्रेन से देवीपाटन, गुवाहटी, रामपुर, मुरादाबाद तक का सफर तय करना है। घड़ी की सुइयां एक बजे के पार करने वाली थीं। लेकिन लखनऊ वाराणसी पैसेंजर का अब तक ट्रेन के संबंध में कोई एनांउसमेंट नहीं हुआ है। प्लेटफार्म पर पहुंचे संवाददाता के हाथ में कैमरे को देख उपस्थित महिलाओं में से एक ने पूछा अब तक ट्रेन नहीं आई है। भाई साहब इसकी भी न्यूज़ लिखे। आगे बढ़ने पर कोई मोदी का दम भरता दिखा तो कोई कांग्रेस के घोषणा पत्र की बात करता दिखा। यहां लोग भले ही गांव और छोटे कस्बों के रहे हों लेकिन चर्चा में राष्ट्रीय स्तर के मुद्दे ही थे। सेना की एयर स्ट्राइक, राफेल, पाकिस्तान अलावा कांग्रेस के घोषणा पत्र, बाइस लाख रोजगार देने और खातों में 72 हजार रुपये भेजने के वादे आदि पर चर्चा होती रही। स्टेशन परिसर में देव स्थान का दर्शन करने के लिये पीरबटावन, आवास विकास, और जेल कालोनी के विभिन्न आयु वर्ग की महिलाएं इंतजार कर रही थीं। उनका दर्द भी सियासत के रंग में रंगा था। राजेश कुमार ने कहा कि मोदी ने बुलेट ट्रेन चलाने का वादा किया था पर आज भारतीय रेल में सीट भी नहीं मिलती। अपने साथी की बात पर चुटकी लेते हुए गुड्डू रावत ने कहा कि कुंभ आस्था की डुबकी की व्यवस्था चौकस थी। मौके पर मौजूद एक बुजुर्ग महिला ने कहा कि अब तो प्रधानमंत्री खुद का चौकीदार तक बताय दीन हैं। गौरी नाम की महिला ने कहा सीट मिले चाहे न मिले। भाजपा अच्छा चुनाव लड़ेगी। मैजिक चलेगा। एक अन्य महिला ने कहा कि कांग्रेस द्वारा परिवार की महिला के खाते में 72 हजार भेजना, अच्छी चुनौती है। कुछ दूर पर बैठे भेलसर निवासिनी ज्वाला गुप्ता भी दौड़ कर आ गईं और बोलीं सुना है कांग्रेस देशद्रोह कानून खत्म कर रही है। उपस्थित एक अन्य महिला ने कहा अबकी मोदी का छप्पन इंची सीना देखना। स्टेशन के प्लेट फार्म नंबर चार पर रामपुर के यात्री रमेश के साथ अवतार, अभिषेक व किशोर आदि ट्रेन का इंतजार कर रहे थे। आपस में चर्चा करते हुए बोले बाराबंकी जिले में करीब आठ शौचालय हम लोगों ने बनाए हैं। अब गांव में शादी है इसलिए जा रहे हैं। फिर वीरेंद्र ने कहा कि कुछ भी हो हम लोग दीपावली से यहाँ पर हैं। यहां आज भी लोग खुले में शौच करते दिख रहे हैं। लेकिन यहां की महिलाओं में खुशी है जिनको उज्ज्वला का लाभ मिला है। चर्चा के दौरान उपस्थित महिला ने कहा कि पीएम आवास पाने वाले भी खुश हैं। कांग्रेस के 22 लाख के रोजगार के वादे पर दूसरी महिला ने कहा हमें शौचालय बनाने में काम मिला हम यह जानते हैं। बाकी आगे देखेंगे