सुल्तानपुर,  बीजेपी के टिकट पर सुल्तानपुर से चुनाव लड़ रही केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी एक मुस्लिम बाहुल्य गांव में चुनावी जनसभा सम्बोधित करने पहुंची थी। मंच से उन्होंने बोलते हुए मुस्लिम वोटरों से कहा कि अगर आपको लगे कि हम खुले हाथ और खुले दिल के साथ आए हैं, कि आपको कल मेरी जरूरत पड़ेगी। ये इलेक्शन तो मैं पार कर चुकी हूं। अब आपको मेरी जरूरत पड़ेगी। अब आपको जरूरत के लिए नीव डालना है, तो ये ही सही वक़्त है।

उन्होंने जनसभा को सम्बोधित करते हुये कहा कि ये जीत आपके बिना भी होगी आपके साथ भी होगी।उन्होंने अपनी बात को पुख्ता करने के लिए वहां मौजूद लोगों से ही सवाल कर लिया। ये बात सही है के नहीं सही है? ये आपको पहचानना पड़ेगा। और ये सब चीज आपको सब जगह फैलानी पड़ेगी। जब मैं दोस्ती के हाथ लेकर करके आई हूं। उन्होंने आगे कहा कि रिजल्ट निकलेगा उसमें 100 वोट या 50 वोट निकलेंगे। उसके बाद जब आप काम के लिए आएंगे तो वही होगा मेरे साथ। समझ गए आप लोग! इसलिए जब आप मेरे ही हो तो क्यूं नहीं मेरे ही रहो।

मैने बिना भेदभाव के केवल मुसलमानो के संस्थाओ को बांटे होंगे लगभग एक हजार करोड़ रुपए। केवल मुसलमानो के संस्थाओ को ताकि वो फले फूले। सवाल ये है आप लोग जब आते हो मदद के लिए तो इलेक्शन के टाइम जब आप कहोगे बाबा नहीं, हम भाजपा को नहीं देंगे। हम कोई भी पार्टी को दे देंगे जिससे भाजपा हारेगी। तो हमारा दिल भी टूटता है। गौरतलब हो कि ये सभा बीजेपी अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष अजादार हुसैन द्वारा आयोजित की गई थी। जो की उनके पैतृक गांव तुराबखानी में हुई।