पटना, 11 मई (आरएनआई) | लोकसभा चुनाव 2019 में इस बार बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव जमानत याचिका खारिज होने के कारण जेल में बंद है. लेकिन जेल की सलाखों में बंद होने के बाद भी वो राजनीति करने से पीछे नहीं है. एक बार फिर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर अपने एक ट्वीट के जरिए निशाना साधते हुए कहा है कि मोदी जी बकबका गए हैं. वो जनता को बुड़बक समझते हैं।

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज से 5 वर्ष पहले जो घोषणाएं की थीं, उनमें से अभी तक एक भी पूरी नहीं की गई है और मोदी सरकार केवल नफ़रत, नौटंकी, जुमलाबाजी, बकबक, झकझक, बकवास, विलाप और 40 साल पहले के गड़े मुर्दे को सूंघ कर भ्रम फैलाने की कोशिश कर रही है।

दरअसल, लालू प्रसाद यादव ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया था कि चौकीदार ने अब कुर्मी, पटेल, धानुक़, कोयरी, कुशवाहा, मौर्य, दांगी और अहीर जाति के आरक्षण की भी चोरी शुरू करवा दी है. इसके बाद अब ये पासवान, रविदास, जाटव, पासी, रज़क, मांझी, नोनिया, बिंद, बेलदार, मल्लाह, निषाद, कहार, केवट, चंद्रवंशी, मंडल और आदिवासी के आरक्षण को समाप्त करेंगे।

आपको बता दें कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर 8 मई को लालू यादव ने ट्वीट कर हमला किया था, तब उन्होंने कहा था कि नीतीश भूल गए कि बाबू जगजीवन राम ने कहा था, ‘लोग पेट की मार तो सह सकते हैं, लेकिन पीठ की मार का जवाब देते हैं.’ लालू यादव ने कहा कि तुमने जनता की पीठ में जो छुरा घोंपा है, उसका जनता मज़ा चखाएगी।