नई दिल्ली: शिक्षाविदों ने शनिवार को एक परामर्श बैठक में कहा कि छात्रों की जरूरतों और शिक्षा को सरकार ने न केवल महामारी में बल्कि अपने कार्यकाल के दौरान सबसे कम प्राथमिकता दी है।  विशेषज्ञों ने  सरकार द्वारा  ऑनलाइन शिक्षा और ‘EdTech (एडटेक)’ को बढ़ावा देने और सार्वजनिक शिक्षा प्रदान करने की अपनी जिम्मेदारी  को नजरअंदाज करने पर भी चिंता व्यक्त की।

‘शिक्षा संवाद’ नामक बैठक का आयोजन दिल्ली स्थित सेंटर फॉर एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (सीईआरटी) द्वारा स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया (एसआईओ) के सहयोग से किया गया था ताकि कोविड-19 महामारी के दौरान गुजरें दो साल में होने वाले शैक्षिक नुकसान से उबरने के तरीके पर चर्चा की जा सके।

प्रोफेसर डॉ अपूर्वानंद (दिल्ली विश्वविद्यालय), प्रोफेसर डॉ अनीता रामपाल (दिल्ली विश्वविद्यालय), सलीमुल्लाह खान (सचिव, तालीमी बोर्ड, जमात-ए-इस्लामी-हिंद), फवाज शाहीन (निदेशक, सीईआरटी) के से साथ साथ जामिया मिलिया इस्लामिया (JMI), जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) और अन्य संस्थानों के छात्र और शोधकर्ता उपस्थित थे।

सआदत हुसैन (जेएनयू) ने कहा कि विश्वविद्यालय अस्थायी शिक्षकों के एक बड़े पैमाने पर अधिक काम और कम भुगतान करके अपनी शैक्षणिक संरचना को बनाए रखते हैं। शिक्षकों को उनके अनुबंध से तुरंत बर्खास्त कर दिया जाता है और शायद ही कभी गर्मियों के वेतन का भुगतान किया जाता है। ऐसे शिक्षकों को स्थायी बनाने के लिए एक व्यापक समाधान की आवश्यकता है।

अनीता रामपाल ने कहा कि डिजिटल शिक्षा, शिक्षा नहीं है। यह वास्तविक शिक्षा का स्थान नहीं ले सकती।  शिक्षक एक ऐसी प्रणाली में फंसे और गुलाम महसूस कर रहे हैं जो कोचिंग को प्रोत्साहित करती है न कि शिक्षण को। छात्र सामूहिक कार्यों द्वारा एक-दूसरे से अधिक सीखते हैं।  ऑनलाइन शिक्षा में वे एक एक स्क्रीन या ब्लैकबोर्ड को घूर रहे हैं, सवाल नहीं करते हैं, बहस नहीं करते हैं, चर्चा नहीं करते हैं।”

अपूर्वानंद ने कहा कि हमारी सरकार के लिए डिजिटल होना प्रगतिशील होना है और वे प्रोफेसरों और उच्च शिक्षा प्रदान करने की अपनी जिम्मेदारी से छुटकारा पाना चाहते हैं।

फ़वाज़ शाहीन ने बताया कि सीखने के परिणामों को प्राप्त करने के लिए शैक्षिक वर्ष का विस्तार करने पर विचार करने की आवश्यकता है।

“शिक्षा संवाद” एक परामर्श श्रृंखला है जिसे शिक्षाविदों, छात्रों, शोधकर्ताओं, व्याख्याताओं और समाज के सदस्यों के साथ देश भर के विभिन्न राज्यों में आयोजित किया किया गया है।