मुजफ्फरपुर, 16 जून (आरएनआई) | मुजफ्फरपुर मिथिला स्टूडेंट यूनियन इकाई के दाउद इब्राहिम के नेतृत्व में मुजफ्फरपुर स्थित अस्पताल एसकेएमसीएच का निरीक्षण किया. वहाँ स्थिति का जायजा लेते हुए विभिन्न खामियां देखने को मिला और उनके सामने कुव्यवस्था के कारण दो से अधिक बच्चों का असुविधा व लापरवाही के कारण मृत्यु हो गई.

वही आक्रोश व्यक्त करते हुए मुजफ्फरपुर मिथिला स्टूडेंट यूनियन इकाई के दाउद इब्राहिम कहा कि मौत का आंकड़ा 83-100 पहुँच गई. एक बीमारी नौनिहालों को काल के गाल समां रहा है और हमारी निक्कमी सरकार व मंत्री संत्री अकर्मण्यता का उदाहरण दें रहे है. देश व मिथिला के नौनिहालों के लिए कारगर कदम उठाकर नन्हें मासूमों के प्राण की रक्षा कीजिए. मुजफ्फरपुर की घटना हृदय को द्रवित कर दिया है. प्यारे जनता को आज एहसास हुआ होगा कि बहुमत वाली सरकारें कितने अच्छे से स्वास्थ्य मंत्रालय चला रहा है.

स्वास्थ्य व्यवस्था की गिरती हालात इस परिस्थिति में भी सुधारी नही गई है. 83 मौतें को जिम्मेदारी मानते हुए स्वास्थ्य व्यवस्था में व्यापक सुधार की आवश्यकता है. स्वास्थ्य विभाग – स्वास्थ्य मंत्रालय की लापरवाही व कुव्यवस्था ने सैकड़ों बच्चों को मौत के घाट उतार दिया, चाहे कारण AES हो या अन्य. अस्पताल कर्मी – डॉक्टरो व विभाग को सक्रियता दिखानी होगी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री आज मुजफ्फरपुर दौड़े पर है, पिछले दिनों हमारे बिहार के कई नेताओ ने भी दौरा किया लेकिन दुर्भाग्य उन सैकड़ों की संख्या में पीड़ित माता-पिता की परिजनों की डॉक्टरों के स्पेशल टीम व स्वास्थ्य सुविधा के बदले नेतागिरी करते नजर आ रहे है. एमएसयू ने मंगलवार को जिला धरना स्थल पर एक दिवसीय उपवास रखने का निर्णय लिया है. इस आशय की जानकारी MSU मुजफ्फरपुर सोशल मीडिया प्रभारी अविषेक कुमार ने दी.