जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले प्रशांत किशोर ने कांग्रेस नेतृत्व की प्रशंसा की है। जिससे कि राजनीतिक बवाल खड़ा हो गया है। उन्होंने विशेष तौर पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को धन्यवाद दिया है।

उनका यह बयान इसलिए मायने रखता है क्योंकि उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध किया है। वहीं संसद में उनकी पार्टी इस मामाले में सरकार के साथ खड़ी थी। पार्टी अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार साफ कह चुके हैं कि पार्टी राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ है सीएए के नहीं।

प्रशांत किशोर ने रविवार को ट्वीट कर कहा, मैं सीएए एनआरसी के औपचारिक और अप्रतिम अस्वीकृति के लिए कांग्रेस नेतृत्व को धन्यवाद देने के लिए अपनी आवाज सम्मिलित करता हूं। खासकर इसे लेकर विशेष पहल के लिए प्रियंका गांधी और राहुल गांधी विशेष धन्यवाद देता हूं। बिहार के लोगों को एक बार फिर आश्वासन देता हूं कि राज्य में सीएए एनआरसी लागू नहीं होगा।

प्रशांत किशोर का यह बयान एनडीए में जेडीयू के रुख से बिलकुल जुदा है। यह केंद्र की मोदी सरकार के स्टैंड के खिलाफ है। उनका यह बयान इसलिए भी मायने रखता है क्योंकि इन दिनों भाजपा के प्रमुख नेता बिहार में सीएए और एनआरसी के पक्ष में सभाएं कर रहे हैं। इसी क्रम में गृह मंत्री अमित शाह बिहार आने वाले हैं।

प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार पर हमला करते हुए आगे लिखा, तीन मुख्यमंत्रियों (पंजाब, केरल और पश्चिम बंगाल) ने नागरिकता संशोधन बिल और एनआरसी का विरोध किया है। अब वक्त आ गया है कि बाकी मुख्यमंत्री इस पर अपना रुख साफ करें।