212 Views

नई दिल्ली, 14 सितंबर 2019, (आरएनआई)। AICC में हुई बैठक में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को अपनी सरकार के कामकाज की मार्केटिंग को भी तवज्जो देने की सलाह दी है। सरकार और प्रदेश कांग्रेस संगठन में घमासान पर सख्त तेवर अपनाते हुए पार्टी नेतृत्व ने मुख्यमंत्रियों को सरकार व संगठन में बेहतर समन्वय की जवाबदेही तय की है।

सरकार में पार्टी नेताओं की सुनवाई के लिए हर हफ्ते प्रदेश कांग्रेस के दफ्तर में राज्य के एक मंत्री की बैठने की व्यवस्था शुरू करने का दिशा-निर्देश दिया गया है। सोनिया गांधी ने कांग्रेस दफ्तर में सूबों के मंत्रियों की रोस्टर डयूटी लगाने की मुख्यमंत्रियों से व्यवस्था शुरू करने को भी कहा है।

वही उन्होंने कहा पार्टी ने विधानसभा चुनाव में घोषाण पत्र में जो वादे किए थे, उन्हें पूरा किया जाना चाहिए। बैठक में आर्थिक मंदी के मौजूदा दौर पर भी चर्चा की गई और पार्टी की राज्य सरकारों द्वारा इससे निपटने के लिए किए गए उपायों और भविष्य में किए जाने वाले उपायों को तत्परता से लागू करने का फैसला किया गया।

वही नवंबर में अपने एक साल का कार्यकाल पूरा कर रहे छत्तीसगढ, मध्यप्रदेश और राजस्थान के मुख्यमंत्रियों से उनके पूरे कामकाज की समीक्षा की गई। इन सरकारों की पहली सालगिरह को शो-केस करने की रूपरेखा पर भी चर्चा हुई।