बाड़मेर। पीओके में वायुसेना की बड़ी कार्रवाई के बाद पाक सीमा से सटी बाड़मेर की सरहद पर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। यहां बीएसएफ ने नफरी बढाई है। सीमा पर सुरक्षा पहरा मजबूत किया गया है और सीमा पार हर गतिविधि पर नजर रखी जा रही है। सुरक्षा के लिहाज से निगरानी तंत्र बढ़ाया गया है। सुरक्षा बल, पुलिस, प्रशासन व सुरक्षा एजेंसियां तालमेल बनाए हुए हैं। सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट मोड पर हैं, वहीं वायुसेना के पीओके में आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई के बाद सरहद को पहरे में रखा गया है।

सेना के जसाई और वायुसेना उत्तरलाई में अलर्ट करने की जानकारी सामने आ रही है। हालांकि कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। सीमा के उस पार अभी कम हलचल होने की खबर आ रही है। जैसलमेर प्रशासन ने आदेश जारी कर भारत-पाक सीमा के पांच किलोमीटर परिधि में अवांछनीय गतिविधियों की आशंका एवं सुरक्षा के मद्देनजर आवागमन पर रोक लगा दी है। यह प्रतिबंध आगामी 4 अप्रेल तक शाम 6 बजे से सुबह 7 बजे तक के लिए लगाया गया है।

पश्चिमी बॉर्डर के पास ग्रामीणों ने कहा कि युद्ध की किसको परवाह है। 1965 और 1971 में घर में घुसकर मारा था। हम न हारे हैं ना हारेंगे। सीमावर्ती रोहिड़ी, तामलौर, पनेला, केरोकरी, जैसिंधर स्टेशन, गडरारोड़ गांवों में भी ग्रामीणों की आंखों में पुलवामा की घटना के बाद आग अभी तक बरकरार है।