कोलकाता। राज्य में माध्यमिक की परीक्षा शुरु हो गयी है । ऐसे में महानगर स्थित सीईएससी क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति में कोई कमी या बाधा नहीं होने पर परीक्षा सुचारु तौर पर चल रही है।  देश का सबसे बड़ा परीक्षण सीजन मंगलवार से शुरू हुआ। सीईएससी के एक प्रवक्ता ने कहा, यह समय माध्यमिक , उच्च माध्यमिक, आइसएसइ, सीबीएसइ परीक्षा यानी दुनियां के सम्भवतः सबसे बड़े परीक्षण सत्र का है। इसके अलावा भी और कई परीक्षाएं है। सीईएससी (वितरण सेवा) अधिकारी अभिजीत घोष ने सीईएससी उपभोक्ताओं को आश्वासन देते हुए कहा की “परीक्षा के मौसम में कंपनी ने सीईएससी की वितरण प्रणाली को मजबूत करने और अपने लाइसेंस प्राप्त क्षेत्रों में 3.3 मिलियन सीईएससी सेवा धारकों को निर्बाध बिजली आपूर्ति और सेवा सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाए हैं।

 

निर्बाध बिजली आपूर्ति केवल परीक्षण केंद्रों पर ही महत्वपूर्ण नहीं है बरन छात्र-छात्राओं के घरों में भी ऐसे समय बिजली आपूर्ति करना भी आवश्यक है जब वे अपने परीक्षा की तैयारी के लिए लंबे समय से मेहनत कर रहे थे। सीईएससी सेवा के तहत में हम गहन और धराप्रवाह प्रकाश व्यवस्था की योजना में थे और उत्तम सेवा व उपभोक्ताओं की मांग को पूरा करने की तैयारी में थे। हमारा ध्येय थे कि किस तरह से उपभोक्ताओं के घरो में दिन रात निरंतर प्रकाश व्यवस्था को अंजाम दे सके। 18 फरवरी से शुरू होने वाली माध्यमिक की परीक्षाएं 27 फरवरी को समाप्त होंगी और फिर 12 मार्च को उच्च माध्यमिक की परीक्षा शुरू होंगी। सीबीएसई-एक्स और सीबीएसई-बारहवीं की परीक्षाएं 15 फरवरी से शुरू हो चुकी हैं और 30 मार्च तक चलेगी।

 

परीक्षाओं के दौरान, सीईएससी के अधिकारी विभिन्न प्रशासनिक अधिकारियों के साथ नियमित रूप से ताल मेल बैठाकर काम करेगें। वही 150 रेडियो फिटेड मोबाइल वैन दिन-रात सीईएससी क्षेत्रों में काम करना शुरू कर दिया है, ताकि जरूरत पड़ने पर विशेषज्ञों के साथ बिजली व्यवस्था को तुरंत अंजाम दे सके।  सेवा को बेहतर प्रदान करने के लिये सीईएससी की मौजूदा कॉल सेंटर नंबरों यानी विशेष सीईएससी हेल्पलाइन नंबर 9831079666 और 9831083700  परीक्षाओं के दौरान  लगातार खुला रखा गया है। यह नम्बर 31 मार्च तक सुबह  9 बजे से 4 बजे तक खुला रहेगा।