103 Views

पटना, 19 सितंबर 2019, (आरएनआई)। पटना यूनिवर्सिटी के छात्रावास में रहने वाले छात्रों और स्थानीय लोगों के बीच जमकर मारपीट हुई दोनों पक्षों की ओर से एफआईआरदर्ज करवाया गया. जिसमें स्थानीय लोगों ने एफआईआर में किसी महिला के साथ छेड़खानी की बात की है, वहीं दूसरी तरफ छात्रों ने एफआईआर में यह दर्ज करवाया है कि उनके किसी सहयोगी को बाहर के स्थानीय लोगों के द्वारा पीटा गया है. जिसके बाद दोनों तरफ से बात विवाद बढ़ गया और फिर मारपीट की नौबत आ गई.

बात इतनी बढ़ गई कि स्थानीय लोग कॉलेज परिसर में घुस गए और कॉलेज के लड़कों ने भी जमकर मारपीट की जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई. मौके पर मौजूद पुलिस फोर्स एस ने इन लोगों को रोकने की कोशिश की पर रोक नहीं पाए. जिसके बाद डीएसपी और उच्च अधिकारियों के नेतृत्व में भारी पुलिस फोर्स एस को मौके वारदात पर भेजा गया और भीड़ को नियंत्रित किया गया. उसके बाद पुलिस के द्वारा सारे कॉलेज और हॉस्टल की तलाशी ली गई, जिसमें एक हथियार भी बरामद किया गया है. बम की बात पर सिटी एसपी सेंट्रल विनय तिवारी ने साफ तौर पर कहा कि ऐसा कुछ नहीं है कोई भी बम की बरामदगी नहीं की गई है, उन्होंने कहा कि पांच हॉस्टलों को फिलहाल बंद कर दिया गया है.

वही इस पूरे मामले में लगभग 28 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, अभी 18 नामजद लोगों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है. सिटी एसपी सेंट्रल विनय तिवारी ने साफ तौर पर कहा कि इस पूरे प्रकरण में हॉस्टल में रह रहे पुराने छात्र के द्वारा ऐसी स्थिति पैदा की गई है उन्होंने कहा कि ऐसे पटना में कई हॉस्टल है. जहां पर यह पुराने छात्र आज भी अवैध रूप से वहां रहते हैं और नए छात्रों को आगे कर ऐसी बड़ी वारदात को अंजाम देते हैं

उन्होंने कहा कि पुलिस इन सभी बिंदुओं पर भी जांच कर रही है फिलहाल 4 अट्ठारह छात्रों पर वारंट भी जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों के द्वारा एक और छात्रों पर एफ आई आर दर्ज किया गया है तो वहीं दूसरी ओर छात्रों के द्वारा स्थानीय लोगों के खिलाफ कई अज्ञातओं का नाम एफ आई आर दर्ज करवाया गया है।

(दीपक कुमार के साथ राजेश कुमार की रिपोर्ट पटना)