37 Views

पीलीभीत, 18 फरवरी 2020, (आरएनआई )। यूपी के पीलीभीत जिले में शहर के कई इलाकों और चौराहों पर लगे हैण्डपम्पो की हालत बहुत ज्यादा खराब हो चुकी है। इसके लिए सरकार द्वारा हर साल शहर के विकास को लेकर काफी अच्छा बजट आता है पर उसके बाद भी शहर के प्रमुख चौराहों और गली मोहल्लों के हैण्डपम्प या तो खराब पड़े है या तो उनमें पानी काफी पीला या गंदा निकलता है जो कि किसी भी हाल में पीने योग्य नही है।

 

आज हम बात कर रहे है पीने योग्य पानी की जहां एक तरफ केंद्र व प्रदेश सरकार जिले की हर नगर पालिका, नगर निगम व नगर पंचायत के काफी अच्छा बजट तो देती ही है पर वो बजट का पैसा कहां लगता है इसका कोई पता नही है। अब गर्मी का मौसम शुरू होने वाला है और शहर के ऐसे कई चौराहों और गलियों, मोहल्लों में हैण्डपम्प की हालत काफी दयनीय है। सरकार नए हैण्डपम्प और हैण्डपम्प को रिबोर कराने के लिए पैसा देती है पर न तो नए हैण्डपम्प नगरपालिका द्वारा लगाए जा रहे है और न ही हैण्डपम्पो को रिबोर कराने का काम किया जा रहा है।

शहर के डिग्री कॉलेज चौराहे पर लगा यह एक इकलौता हैण्डपम्प है जो अपनी बदहाली के आंसू बहा रहा है। इस चौराहे पर डिग्री कॉलेज, रामा इंटर कॉलेज और राजकीय बालिका इंटर कॉलेज है जहां दिन में सैकड़ो छात्र-छात्राएं पानी के लिए भटकते नजर आ ही जायेंगे। इसके अलावा कई यात्री पीने योग्य पानी के लिए तरसते नजर आएंगे।

इस हैण्डपम्प के पास ही एक मंदिर भी है जहाँ मंदिर की साफ-सफाई के लिए पानी की आवश्यकता पड़ती है पर पानी निकलता नजर है इस हैण्डपम्प से पर काफी चलाने के बाद वो भी मटमैला और गंदा जो कि पीने योग्य तो नही है पर लोग इस पानी को पीते हुए भी नजर आ जाएंगे। जो आगे जाकर बीमारियों का कारण भी बनता है।