1,264 Views

आज़म गढ़, यूपी

मुसलमानों को धोका देने पर लगेगी लगाम, मेनिफेस्टो में सुनिश्चित करनी होगी भागीदारी, खोखले वादों से नहीं चलेगा काम, 2019 के चुनाव में मुसलमानों की नई रणनीति से लोकतंत्र को मिलेगी मज़बूती, भागीदारी के बाद ही होगा सब का साथ सब का विकास

उत्तर भारत के सुन्नी समुदाय के सब से बड़े धार्मिक मदरसों में से एक अल्जामिअतुल अशरफिया, मुबारकपुर आज़म गढ़ की तलबा बिरादरी की एक बैठक में इस विषय पर गहन चर्चा हुई और मुसलमानों में सियासी बेदारी मुहिम छेड़ने की बात करते हुए यह निष्कर्ष निकाला गया कि किसी भी पार्टी की तरफ से भागीदारी की बात ना करना संदेह पैदा करता है। सत्ता में भागीदारी सुनिश्चित करना हर राजनैतिक पार्टी की ज़िम्मेदारी है और

यह किसी भी दूसरे समुदाय की तरह मुसलमानों का भी हक़ है।

इस से पहले 28 जनवरी को आल इंडिया उलमा व मशाईख़ बोर्ड द्वारा लखनऊ में एक सामाजिक न्याय सम्मेलन आयोजित कर यही आवाज़ उठाई गयी थी और तमाम राजनैतिक पार्टियों को राजनैतिक हिस्सेदारी और सत्ता में भागीदारी को सुनिश्चित किये जाने हेतु ज्ञापन पत्र भी भेजा गया था।

भागीदारी की तेज़ होती इस आवाज़ से सियासी गलियारों में गर्मी महसूस की जा रही है। बोर्ड के बाद जामिया अशरफिया की तरफ से इस आवाज़ के उठाये जाने से भागीदारी की मांग की आवाज़ को मज़बूती मिलेगी और इस लोकसभा चुनाव में मुसलमान सियासी तौर पर मज़बूत हो सकता है।

जामिया अशरफिया के छात्र संघ की इस बैठक में जामिया से फारिग़ होने वाले युवा छात्रों, जो अब किसी मस्जिद के इमाम, मदरसे के अध्यापक, लेखक, वक्ता या समाज सुधारक हैं, ने हिस्सा लिया जो देश भर से जामिया अशरफिया मोहसिन ए अज़ीज़ हज़रत मौलाना अब्दुल अज़ीज़ रह. (हाफ़िज़े मिल्लत) के सालाना उर्स में शामिल होने आये थे।

 

बैठक में मौलाना सलमान फरीदी मस्क़त ओमान बहरीन, डॉक्टर अमजद रज़ा अमजद पटना बिहार, मौलाना सग़ीर अख्तर बरेली यूपी, मौलाना अफरोजुल क़ादरी चिरैया कोट, मौलाना अज्हरुल इस्लाम अज़हरी, अध्यापक जामिया अशरफिया, मौलाना अख्तरुल इस्लाम चिरैया कोट, मौलाना अजहार अहमद अमजदी अज़हरी ओझा गंज, मौलाना मुजाहिद हुसैन हबीबी कलकत्ता, मौलाना निसार अहमद बस्ती, मौलाना तौसीफ़ रज़ा संभल, मौलाना अब्दुल बारी दिल्ली, मौलाना मंज़र अमन दिल्ली, मौलाना अनवर रज़ा मुंबई, मौलाना आलमगीर संभल, मौलाना मोहसिन रज़ा मुरादाबाद, मौलाना गुलाम रहमानी हबीबी मुरादाबाद इत्यादि शामिल हुए।