रिपोर्ट :- मुहम्मद बदरूद्दीन देवरिया
जामिया इस्लामिया रौनाही फ़ैज़ाबाद उत्तर प्रदेश के पचास साल पूरे होने पर 26 , 27 मार्च को रौनाही में हो रहे दो दिवसीय कार्यक्रम गोल्डेन जुबली(जश्ने ज़र्रीँ) को सफल बनाने के लिए रामपुर महुआबारी स्थित मदरसा जामिया निज़ामिया फ़ैज़ुल उलूम ज़िला देवरिया में बैठक हुई ।जिसमें  देवरिया और कुशीनगर के सभी जामई बिरादरान ने हिस्सा लिया । और गोल्डेन जुबली को सफल बनाने के लिए विचार विमर्श किया ।हाफ़िज़ शहीद साहब ने तिलावते पाक से प्रोग्राम क़ा आगाज़ किया उसके बाद मौलाना सैफुद्दीन जामई ने नाते पाक पेश किया ।
सबसे पहले मौलाना मनौवर जामई ने संबोधित करते हुए कहा कि जामिया रौनाही अपनी तालीमी कारनामों की वजह से एक अलग पहचान रखता है। वहाँ के फारिगीन दुनिया के कोने कोने में जाकर मसलके आला हज़रत का प्रचार व प्रसार कर रहे हैं ।सदारती ख़ुत्बा पेश करते हुए हुज़ूर सैयद ओवैस मुस्तफ़ा साहब के ख़लीफ़ा हज़रत अल्लामा  सूफ़ी मुहम्मद कलीम जामई ओवैसी साहब ने कहा कि आज हिन्द व पाक और बंगलादेश में अगर सही मज़हब है तो वो मसलके आला हज़रत की वजह से है । उन्होने कहा कि देवरिया व कुशीनगर में मज़हबे अहले सुन्नत है तो उसमे भी जामई बिरादरान का बहुत अहम रोल रहा है ।
देवरिया व कुशीनगर के जामई बिरादरान की जिम्मदारी पर बात करते हुए मुफ़्ती नौशाद जामई साहब ने कहा कि दीन की तबलीग़ के लिए जो जिस जगह भी हो वह वहीँ से बुनियादी तालीम पर ख़ूब मेहनत करे । दुनिया की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी जामिया अज़हर मिस्र से पढ़ कर आए मौलाना सद्दाम जामई साहब ने कहा कि जामिया और जामई के एक दूसरे पर कुछ ज़िम्मेदारियाँ हैं ऐसे में दोनों अपनी ज़िम्मेदारियों को ठीक तरह से निभाएँ।मौलाना हसनैन जामई साहब ने भी राजनीति पर बोलते हुए कहा कि ओलमा मदरसे से निकलकर राजनीति में भी समाज की अगुआई करें।
मौलाना अब्दुलकय्यूम ने कहा कि 26 , 27 मार्च को फैज़ाबाद के रौनाही के गोल्डेन जुबली कार्यक्रम में देवरिया , कुशीनगर समेत पूरे भारत के ओलमा पहुँच कर इस कार्यक्रम को इतिहासिक बनाने का काम करेंगे।जामिया निजामिया फैजुल उलूम के बानी मौलाना ग़ुलाम यासीन जामई साहब ने भी रौनाही के असातजा की तारीफ़ करते हुए कहा कि हज़रत मुफ़्ती शब्बीर हसन साहब और हज़रत अल्लामा नोमान ख़ान साहब अलैहिर्रहमा की बेहतरीन तरबीय्यत का नतीजा है कि आज पूरी दुनिया में जामई बिरादरान जामिया और अपने असातजा का नाम रौशन कर रहे हैं ।
इस कार्यक्रम में मौलाना बदीउद्दीन जामई साहब समेत कई लोगों ने अपने  विचार साझा किए।कार्यक्रम का संचालन मौलाना जक़ाउल्लाह साहब ने किया।जबकि नेतृत्व मौलाना अब्दुलजलील साहब जामई मदरसा भानपुर कुशीनगर ने किया । मौलाना सनौवर साहब जामई ने सलाम पढ़ाया और मुनाज़िरए अहले सुन्नत अल्लामा शाकिर जामई साहब की जश्ने ज़र्रीँ की कामयाबी की दुआ पर प्रोग्राम ख़त्म हुआ
इस दौरान बदरूद्दीन , हाफ़िज़ तनवीर , मौलाना सैफुद्दीन,मौलाना मुहम्मद हसन , हाफिज़ अमीन, मौलाना एहसानुल्लाह जामई , मौलाना नूरमुहम्मद , समेत देवरिया और कुशीनगर के दर्जनों जामई बिरादरान हाजिर रहे।