नई दिल्ली, 08 जनवरी 2020, (आरएनआई )। यूरोपियन यूनियन (EU) गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के दौरे पर जा रहे विदेशी प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा नहीं होगा. सूत्रों ने बताया कि यूरोपियन यूनियन के प्रतिनिधि किसी भी तरह के गाइडेड टूर के पक्ष में नहीं है और वे बाद में वहां जाएंगे. केंद्र सरकार ने विदेशी प्रतिनिधिमंडल को जम्मू-कश्मीर दौरे के लिए आमंत्रित किया है.

यूरोपियन यूनियन के सांसदों ने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा हटने के 3 महीने बाद अक्टूबर में राज्य का दौरा किया था. इस दौरान उन्होंने स्थानीय लोगों से मुलाकात की थी. साथ ही सुरक्षाबलों ने उन्हें ब्रीफ भी किया था. ठीक इसी तरह का दो दिवसीय दौरा कल से शुरू हो रहा है. इसमें लैटिन अमेरिका और अफ्रीका के प्रतिनिधि शामिल होंगे.

सूत्रों ने कहा कि, यूरोपियन यूनियन के दूत किसी गाइडेड टूर का हिस्सा नहीं बनना चाहते हैं. वे स्वेच्छा से खुद के चुने हुए लोगों से मिलना चाहते हैं. वे राज्य के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों, फारुक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती से भी मुलाकात करना चाहते हैं, जो 5 अगस्त को राज्य का विशेष दर्जा समाप्त होने के बाद से ही हिरासत में हैं.