29 Views

हाथरस, 10 फरवरी 2020, (आरएनआई )। उत्तर प्रदेश के जनपद हाथरस में ससुरालीजनों द्वारा मारपीट कर घर से निकाली गई पीड़ित महिला की शिकायत पर थाना पुलिस द्वारा ससुरालीजनों के खिलाफ कार्यवाई न किये जाने पर पीड़ित महिला आत्महत्या करने के लिए थाने के सामने हाइवे पर लेट गई। जिसको थाना कोतवाली चंदपा में तैनात महिला कॉस्टेबल ने बमुश्किल पीड़ित महिला को हाइवे से घसीटते हुये हटाया।जब इंसान को न्याय नहीं मिलता हे तो वो कुछ भी कर गुजरने को तैयार हो जाता हे ऐसा ही एक मामला जिले के थाना कोतवाली चंदपा क्षेत्र के गांव नगला बास का है।

यहां नगला बांस की रहने वाली पीडित महिला प्रीति को उसके पति मुकेश, जेठ गोपाल व जीतू, ने मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया। और पीड़ित महिला के बच्चो को ससुरालीजनों ने अपने पास ही जबरन रख लिया। पीड़ित महिला प्रीति अपने साथ हुई मारपीट और बच्चो को जबरन ससुरालीजनों द्वारा अपने पास रखने की शिकायत लेकर थाना कोतवाली चंदपा पुलिस के पास पंहुची और ससुरालीजनों के खिलाफ थाने में लिखित शिकायत दी।

लेकिन जब थाना कोतवाली चंदपा पुलिस द्वारा पीड़ित महिला की शिकायत पर कोई कार्यवाई नहीं की तो गुस्से में आकर पीड़ित महिला प्रीति थाने के सामने आत्महत्या करने के लिए हाइवे पर लेट गई। जिससे थाना पुलिस में हड़कंप मंच गया आनन-फानन में थाने पर तैनात महिला कॉस्टेबल ने पीड़ित महिला को बमुश्किल हाइवे से घसीटे हुये थाने के अंदर लेकर आई।

वंही इस पुरे मामले में जिले के अपर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ वर्मा ने बताया की महिला की शिकायत पर कार्यवाई करते हुये ससुरालीजनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। साथ ही महिला के पति को थाना पुलिस द्वारा गिरफ्तार करते हुये व महिला के बच्चो को बरामद कर महिला के सुपुर्द करके आगे की कार्यवाई की जा रही है। वही एक प्रश्न चिन्ह चंदपा पुलिस पर भी लगा है कि अगर पीड़िता की पहले ही सुनवाई हो जाती तो उसे इस प्रकार हाइवे पर लेटकर अपनी जान जोखिम में नहीं डालनी पडती।