लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भाजपा पर निशाना साधत् हुए कहा कि आज का युवा ही कल का भविष्य है, लेकिन भाजपा की कुनीतियों के चलते उसके सपने तोड़े जा रहे हैं।

देश की युवा शक्ति को गुमराह करने के लिए भाजपा सरकारें तमाम साजिशें कर रही हैं। ऐसी परिस्थिति पैदा की जा रही है कि नौजवान शिक्षा और रोजगार से वंचित रहे। इसके लिए प्राथमिक तौर पर विश्वविद्यालयों को निशाना बनाया जा रहा है, छात्र-छात्राओं का उत्पीड़न कर उन्हें समाज और राष्ट्र की मुख्यधारा से अलग रखने का षडयंत्र हो रहा है।

भाजपा सरकार ने लखनऊ, इलाहाबाद, बनारस, गोरखपुर के विश्वविद्यालयों में छात्रसंघों को निष्क्रिय बनाने के साथ वहां शैक्षिक अव्यवस्थाओं पर उंगली उठानेवाले छात्र-छात्राओं को फर्जी मुकदमों में फंसाने के साथ उनका परिसर में प्रवेश भी प्रतिबंधित कर दिया है। उनके शैक्षिक जीवन को बर्बाद करने के हथकंड़े अपनाए जा रहे हैं। शांतिपूर्ण आंदोलन करने पर छात्र-छात्राओं को जेल की यातनाएं दी जा रही है।

विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ लोकतंत्र की नर्सरी के तौर पर काम करते रहे हैं। देश के तमाम बड़े नेता, प्रशासक, शिक्षाविद तथा चिकित्सा सहित विविध क्षेत्रों के विशेषज्ञ इन्हीं की देन हैं। लोकतंत्र का पहला पाठ यहीं पढ़ा जाता है। छात्र संघों के पीछे स्वतंत्रता आंदोलन से लेकर कई बुनियादी मुद्दों पर संघर्ष का स्वर्णिम इतिहास रहा है।