29 Views
कोलकाता। एक बार फिर नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी फाइलों को सार्वजनिक करने की मांग उठी है। नेताजी के प्रपौत्र चंद्र कुमार बोस ने आज एक ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे को टैग किया है। इसमें उन्होंने लिखा है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस के रहस्यमय तरीके से लापता होने की सच्चाई आज भी सामने नहीं आ सकी है। जापान में नेताजी की मौजूदगी से संबंधित तीन टॉप सीक्रेट फाइल्स हैं जिन्हें आज तक रिलीज नहीं किया गया है। ना ही रेंकोजी मंदिर में रखी गई नेताजी सुभाष चंद्र बोस की कथित अस्थियों का डीएनए टेस्ट किया गया है। उल्लेखनीय है कि चंद्र कुमार बोस हमेशा से मांग करते रहे हैं
कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी सभी फाइलें बिना देरी किए सार्वजनिक की जानी चाहिए। आजादी की लड़ाई के महानायक रहे नेताजी संभवतः दुनिया के सबसे रहस्यमय जनप्रिय नेता रहे हैं। ऐसा दावा किया जाता है कि 1945 में जापान जाते वक्त प्लेन क्रैश में उनकी मौत हो गई थी लेकिन रिसर्च ने इस दावे को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। दावा किया जाता है कि आजादी के बाद नेताजी सुभाष चंद्र बोस चीन के रास्ते नेपाल होते हुए भारत आए थे और उत्तर प्रदेश में गुमनामी बाबा के तौर पर 1985 तक जिंदा रहे थे। कई स्वतंत्रता सेनानी और नेताजी से जुड़े लोगों ने उनसे मुलाकात भी की थी। इससे संबंधित चिट्ठियां भी सामने आई हैं। इसलिए उनके गुमनामी से संबंधित रहस्य के उद्घाटन की मांग लगातार उठती रही हैं।