नीति आयोग के सदस्य वीके सारस्वत ने शनिवार को कहा कि जम्मू कश्मीर में इंटरनेट सेवाओं पर लगी पाबंदी का अर्थव्यवस्था पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ा क्योंकि वहां पर इंटरनेट का इस्तेमाल केवल गंदी फिल्में देखने के लिए किया जाता था.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, धीरुभाई अंबानी इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन एंड कम्यूनिकेशन टेक्नोलॉजी (डीए-आईआईटी) के सालाना दीक्षांत समारोह से इतर पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि ये जितने नेता वहां जाना चाहते हैं, वो किस लिए जाना चाहते हैं? वो जैसे आंदोलन दिल्ली की सड़कों पर हो रहा है, वो कश्मीर में सड़कों पर लाना चाहते हैं।

आगे उन्होंने कहा- जो सोशल मीडिया है, वो उसको आग की तरह इस्तेमाल करता है, तो आपको वहां इंटरनेट ना हो तो क्या फर्क पड़ता है? और वैसे भी आप इंटरनेट में वहां क्या देखते हैं? क्या ई-टेलिंग हो रहा है वहां पे? वहां गंदी फिल्में देखने के अलावा कुछ नहीं करते आप लोग.’

बता दें कि, बीते 5 अगस्त को पूर्ववर्ती जम्मू कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा खत्म करने के साथ ही केंद्र सरकार ने वहां इंटरनेट के साथ मोबाइल और ब्रॉडबैंड सेवाओं पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी थी।