पटना, 7 अप्रैल (आरएनआई) | युवाओं को सपना जरूर देखना चाहिए और सपना इतना बड़ा हो कि उसे देखते हुए भी डर लगे । सपना ऐसा हो कि वह सोने ना दे और हर दम सपने को पाने के लिए हम प्रयास करते रहें । क्योंकि लहरों के डर से नौका पार नहीं होती और कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती । हर व्यक्ति अपने में विशिष्ट होता है, इसलिए दूसरों से अपनी तुलना करके परेशान होने की कोई आवश्यकता नहीं । सबके लिए समय और परिस्थितियां अलग-अलग होती है । इसलिए मंजिल पर पहुंचने में अलग-अलग समय लगता है । लेकिन यदि हम पूरे शिद्दत के साथ अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित रहे तो कायनात भी मदद करने के लिए आगे आती है । ब्लिस इंडिया द्वारा प्रेमचंद रंगशाला में युवाओं को जीवन में बेहतर करने हेतु प्रेरित करने के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें प्रसिद्ध लोक गायिका देवी, भारतीय रेल यातायात सेवा के अधिकारी दिलीप कुमार, वैज्ञानिक डॉ गोपाल शर्मा, टी कॉलिंग के संस्थापक अभिनव टंडन, कौशल्या फाउंडेशन के संस्थापक कौशलेंद्र और मुंबई की प्रिंसी रॉय ने अपने जीवन से संबंधित प्रेरक बातों को युवाओं के समक्ष रखते हुए उन्हें जीवन में कुछ अलग करने तथा जिंदगी को जिंदादिली के साथ जीने के लिए प्रेरित किया । इस अवसर पर लोक गायिका नीतू कुमारी नवगीत ने गणेश वंदना मंगल के दाता रउआ, देवी आराधना गीत लाली चुनरिया शोभे हो शोभे लाली टिकुलिया सहित अनेक गीतों की प्रस्तुति की । उन्होंने दमा दम मस्त कलंदर और मेरे रश्के कमर जैसे गीतों पर युवाओं को झुमाया । देवी ने राजधानी पकड़ के आ जइयो तथा बहे के पुरवा रामा बह गईले पछिया बयार मोर सजनवा हो सहित अनेक लोकगीतों की प्रस्तुति करके श्रोताओं का मन मोहा । कार्यक्रम का संयोजन डॉ विजय कुमार साहू ने किया । कार्यक्रम के समापन के समय स्पार्टन रॉक बैंड द्वारा दमदार प्रस्तुति दी गई ।