कोलकाता। राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज राज्य सचिवालय नवान्न में जिलाधिकारियों के साथ वर्चुअल कांफ्रेंस के दौरान वक्तव्य रखते हुए आरोप लगाया कि एक विशेष राजनीतिक दल (बीजेपी) कोविड-19 के कानून का पालन नहीं कर रहा है।
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा बंगाल में तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी की सरकार को उखाड़ फेंकने के आह्वान पर मुख्यमंत्री और ममता बनर्जी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा ”केंद्र सरकार भी जनता द्वारा निर्वाचित सरकार है। राज्य सरकार भी जनता द्वारा निर्वाचित सरकार है। कोई लक्ष्मण रेखा का उल्लंघन नहीं करें। परस्पर लक्ष्मण रेखा का पालन करना चाहिए। मैं भी उखाड़ फेंकने की बात कह सकती हूं, लेकिन केंद्र सरकार की भी अपनी सीमाएं हैं, तो राज्य सरकार की भी अपनी सीमाएं हैं।”उन्होंने कहा कि राज्य के इलाके में केंद्रीय बल के जवानों के साथ पहुंच जा रहे हैं। राज्य के आइपीएस व आइएएस अधिकारियों को धमकाया जा रहा है।

अधिकारियों से कहा जा रहा है कि यदि वह नहीं माने तो उनके खिलाफ इनकम टैक्स के अधिकारियों को लगा देंगे, उनके खिलाफ विजिलेंस लगा देंगे।लेकिन ये अधिकारी राज्य सरकार के लिए काम करते हैं, राज्य सरकार भी उनके साथ है।उन्होंने आगे कहा, कुछ लोग बाहर से आकर बंगाल को ध्वस्त करना चाहते हैं, लेकिन ऐसा करने नहीं दिया जायेगा. सभी मिलकर इसका मुकाबला करेंगे. उन्होंने कहा कि हर जगह बंगाल को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है. दुर्गा पूजा के बावजूद बंगाल में कोरोना का संक्रमण घटा है. केरल की बात नहीं होती है, लेकिन बंगाल को बदनाम किया जाता है. उन्होंने जिलाधिकारियों को 100 दिन के काम को त्वरित करने का निर्देश दिया