कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोला। कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में राहुल गांधी ने कहा है कि विचारधारा की लड़ाई में बीजेपी को हराएंगे।

राहुल गांधी ने सांसदों को संबोधित करते हुए कहा कि बेरोजगारी, नोटबंदी और भ्रष्टाचार ने मोदी सरकार की विश्वसनीयता गिराई है। इसी के साथ उन्होंने सांसदों के लिए दो एजेंडे सेट किए, जिसमें पहला सरकार को रफाल के सवाल पर घेरे रखना है और  दूसरा Minimum Income Guarantee के वादे को जन-जन तक पहुंचाना है। सोनिया गांधी ने भी बैठक में सभी लोकसभा सांसदों को इस बात की शाबाशी दी कि सिर्फ 44 होने के बावजूद कांग्रेस सांसदों ने बहुमत वाली बीजेपी की सरकार को करारी टक्कर दी। सोनिया ने कहा कि बेवकूफ बनाना और धमकाना है तो कोई मोदी सरकार से सीखे,और पीछले पांच साल से मोदी सरकार का यहीं आधार है। कांग्रेस संसदीय दल की बैठक के बाद संसद परिसर में गांधी की प्रतिमा के पास टीडीपी सांसदों के धरने प्रदर्शन में सोनिया और राहुल गांधी भी शामिल हुए।

आपको बता दें कि राफेल डील पर सियासी घमासान के बाद सीएजी की रिपोर्ट राज्यसभा में आज पेश हो गई है। सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट को दो हिस्सों में तैयार किया गया है। रिपोर्ट का पहला हिस्सा पूरी तरह से राफेल डील पर है, जबकि दूसरे हिस्से में एयरफोर्स के लिए खरीदे गए 10 अन्य विमानों का जिक्र है। दरअसल राफेल डील और उसकी कीमत पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी  केंद्र सरकार पर लगातार निशाना साधते नजर आ रहा हैं। वो इस डील पर लगातार भ्रष्टाचार का आरोप लगाते रहे हैं। ऐसे में इस डील के बारे में सीएजी की राय अहम साबित हो सकती है।

कांग्रेस ने राफेल की सीएजी  रिपोर्ट पर पहले ही सवाल उठा दिए हैं। कांग्रेस का कहना है कि मौजूदा सीएजी राजीव महर्षि सौदे के वक्त वित्त सचिव थे ऐसे में उनसे निष्पक्ष जांच की उम्मीद भला कैसे की जा सकती है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तो इसे चौकीदार ऑडीटर जनरल रिपोर्ट तक कह दिया है।