218 Views

बंगलूरू, 24 सितंबर 2019, (आरएनआई)। कर्नाटक में 21 अक्तूबर को 17 विधानसभा सीटों पर चुनाव होने हैं। ऐसे में सभी पार्टियों ने संभावित उम्मीदवारों की खोज शुरू कर दी है। यह सीटें 17 विधायकों को पूर्व स्पीकर केआर रमेश कुमार द्वारा अयोग्य ठहराने के बाद खाली हुई हैं। इन विधायकों ने कांग्रेंस-जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) गठबंधन वाली सरकार से इस्तीफा दे दिया था।

इसी बीच कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी का कहना है कि स्थानीय नेता को तवज्जो दी जाएगी। उन्होंने कहा, आगामी उपचुनाव में हमने 15 विधानसभा सीटों पर स्थानीय नेताओं को प्राथमिकता देने का फैसला लिया है। हम जल्द ही उम्मीदवारों की सूची तैयार कर लेंगे।

कुमारस्वामी ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता को भी आड़े हाथ लिया और कहा कि वह कांग्रेस हाईकमान के आशीर्वाद से मुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने कहा, मैं सिद्धारमैया का पालतू तोता नहीं हूं। उनके जैसे बहुत से लोग एचडी देवे गौड़ा के नेतृत्व में फले-फूले हैं। मैं कांग्रेस हाईकमान के आशीर्वाद से मुख्यमंत्री बना था।

उन्होंने आगे कहा, वह (सिद्धारमैया) कांग्रेस हाईकमान की बात नहीं सुनते थे जब वह कोई निर्देश देते और इसी वजह से सरकार आगे नहीं चली। कांग्रेस छोड़ने के बाद मैंने क्षेत्रीय इकाई स्थापित करने का काम किया। क्या सिद्धारमैया के पास क्षेत्रीय गौरव के लिए कुछ भी करने की हिम्मत है?