106 Views

तेल अवीब, 20 सितंबर 2019, (आरएनआई)। इस्राइल में 17 सितंबर को प्रधानमंत्री पद के लिए हुए चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिल सका है। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की लिकुड पार्टी को 31 सीटें तो विपक्षी दल के नेता बैनी गैंट्ज की मध्यमार्गी पार्टी ब्लू एंड व्हाइट को 33 सीटें मिली हैं।

इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी बेनी गैंट्ज के साथ गठबंधन सरकार बनाने के मुद्दे पर बृहस्पतिवार को उनसे बात की थी। नेतन्याहू ने तीसरे चुनाव की संभावना को टालने के लिए ऐसा किया है जहां दूसरी बार हुए मतदान में स्पष्ट रूप से किसी को बहुमत नहीं मिला है।

देश में पांच महीने के अंदर दूसरी बार हुए चुनाव की करीब 95 प्रतिशत मतगणना गुरुवार तक हुई जिसमें गैंट्ज की ब्लू एंड व्हाइट पार्टी को इस्राइल की 120 सीटों वाली संसद में 33 सीटें प्राप्त हुई हैं। नेतन्याहू की लिकुद पार्टी को 31 सीटें मिली हैं। इस्राइल में सरकार बनाने के लिए 61 सीटें चाहिए। दोनों पार्टियां अपने गठबंधनों के साथ भी 64 के आंकड़े तक पहुंच रही हैं।

नेतन्याहू ने कहा कि चुनाव में मैंने एक दक्षिणपंथी सरकार के गठन का आह्वान किया था, लेकिन दुख की बात है कि चुनाव परिणाम दिखाते हैं कि यह संभव नहीं है। उन्होंने यह कहते हुए संकेत दिया कि इस्राइल वासियों ने किसी भी एक गुट को स्पष्ट बहुमत नहीं दिया।

नेतन्याहू ने कहा कि अब कोई और विकल्प नहीं है और केवल एक व्यापक गठबंधन सरकार बन सकती है। नेतन्याहू ने 60 वर्षीय गैंट्ज से प्रक्रिया शुरू करने के लिए जल्द से जल्द मिलने को कहा।

सबसे पहले अप्रैल में चुनाव हुआ था जिसमें सरकार बनाने के लिए कोई गठजोड़ नहीं बना पाने के बाद 69 वर्षीय नेतन्याहू ने दूसरे चुनाव की घोषणा की थी।

इस्राइल में हुए आम चुनाव में प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के मुख्य प्रतिद्वंद्वी बेनी गैंट्ज ने गुरुवार को कहा कि उन्हें देश की वृहद एकता सरकार का प्रधानमंत्री होना चाहिए।