96 Views

नई दिल्ली, 20 सितंबर 2019, (आरएनआई)। भारत के मून मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का चांद पर लैंडिंग से ठीक पहले संपर्क टूट जाने बाद से इसरो लगातार संपर्क करने की कोशिश में जुटा हुआ है लेकिन अभी तक कामयाबी नहीं मिली है।

इसरो की तरफ से बयान जारी कर कहा गया है कि शिक्षाविदों और इसरो विशेषज्ञों की राष्ट्रीय स्तर की समिति लैंडर से संपर्क टूटने के कारणों का अध्ययन कर रही है। इसरो ने बताया है कि भारत के दूसरे मून मिशन का ऑर्बिटर निर्धारित वैज्ञानिक प्रयोगों को संतोषजनक तरीके से अंजाम दे रहा है और इसके सभी पेलोड का कामकाज संतोषप्रद है। वहीं इसरो चीफ के. सिवन ने भी बताया कि ऑर्बिटर के पेलोड काम कर रहे हैं, उन्होंने तस्वीरें भेजनी शुरू कर दी हैं और वैज्ञानिकों की टीम उनका अध्ययन कर रही है।