ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लमीन अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गुजरात में 2002 के दंगों की याद दिलाई। आपको बता दें कि इससे पहले मोदी ने 1984 में सिख विरोधी दंगों को कथित तौर पर ‘भयावह जनसंहार’ करार दिया था।

ओवैसी ने एक ट्वीट में कहा कि गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान मोदी जीवन की रक्षा करने के अपने संवैधानिक कर्तव्य में विफल रहे थे। ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘‘श्रीमान प्रधानमंत्री वैसे ही 2002 के दंगे भी थे जो मुख्यमंत्री के तौर पर आपके कार्यकाल के दौरान हुए थे और आप मानव जीवन की रक्षा करने के अपने संवैधानिक शपथ में विफल रहे थे।