अडानी फाउंडेशन की ओर से गुजरात के भुज टाउन में संचालित जीके जनरल हास्पिटल में पिछले पांच साल के भीतर 1018 बच्चों की मौत का मामला सामने आया है. विधानसभा में एक सवाल के जवाब में गुजरात की बीजेपी सरकार ने यह जानकारी दी है।

स्वास्थ्य महकमा संभालने वाले उप मुख्यमंत्री ने मौत के आंकड़े जारी करते हुए कहा कि 2014-15 में 188, 2015-16 में 187, 2016-17 में 208, 2017-18 में 276 और 2018-19 में 159 बच्चों की मौत हुई. मौत के पीछे उन्होंने विभिन्न बीमारियों और अन्य चिकित्सा जटिलताओं को जिम्मेदार ठहराया।

उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने बताया कि मौतों की जांच के लिए पिछले साल मई में एक कमेटी गठित हुई थी. कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में बच्चों, खासकर नवजातों की मौत के पीछे कई कारणों को जिम्मेदार बताया था. उन्होंने बताया कि समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं में गंभीर जटिलताएं, संक्रामक रोग, सांस संबंधी परेशानियों आदि के चलते बच्चों की मौत हुई।