84 Views

नई दिल्ली, 14 जून (आरएनआई) | पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के एक अस्पताल में डॉक्टर के साथ मारपीट की घटना के विरोध में देशभर में आज रेजिडेंट डॉक्टरों ने हड़ताल किया , जिससे कई स्थानों पर मरीजों को कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। हालांकि आपात सेवाएं सुचारू रूप से चलाये जाने से मरीजों को कुछ राहत मिली।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन एवं दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन ने हड़ताल का आह्वान किया था।

राजधानी दिल्ली में देश के सबसे बड़े अस्पताल ए.आई.आई.एम.एस, सफदरजंग , राम मनोहर लोहिया एवं अन्य अस्पतालों में हड़ताल से ओपीडी सेवाएं प्रभावित हुई । मरीजों को इधर से उधर भटकते देखा गया। वैसे वरिष्ठ चिकित्सकों की मौजूदगी से आपात एवं अन्य सेवाओं पर मामूली असर पड़ा।

सफदरगंज अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सुनील गुप्ता ने बहुभाषी समाचार एजेंसी आर.एन. आई. से बातचीत में कहा कि हड़ताल से असर पड़ा है, लेकिन इससे निपटने की पूरी व्यवस्था की गयी है। सभी वरिष्ठ चिकित्सक काम पर मौजूद हैं। आपात सेवा सुचारू रूप से ज़ारी है। निरंतर स्थित पर निगरानी रखी जा रही है, ताकि मरीजों को परेशानी नहीं हो।

डॉ. गुप्ता ने कहा कि पश्चिम बंगाल में डॉक्टर के साथ जिस तरह मारपीट की गयी। यह निंदनीय है और ऐसी घटनाओं से डॉक्टरों में रोष बढ़ना स्वाभाविक है। हालांकि मानवीय पक्षों को देखते हुए हड़ताली डॉक्टर भी आपात व्यवस्था सुचारू बनाये रखने के लिए सहमत जताई है।